Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

वतन की खातिर

कारगिल विजय दिवस पर……आपकी नज़र.

शहीदों की अनमोल धरोहर संभालो
वतन की खातिर ही वतन को बचालो
***************************
उठो जाति मजहब सियासत से ऊपर
चूम लो धरा दिल मे वतन को बिठालो
****************************
कपिल कुमार
26/07/2016

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 624 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
हरे भरे खेत
हरे भरे खेत
जगदीश लववंशी
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
Buddha Prakash
शिक्षक
शिक्षक
Mukesh Kumar Sonkar
आया होली का त्यौहार
आया होली का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
स्वाद
स्वाद
Santosh Shrivastava
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
"भैयादूज"
Dr Meenu Poonia
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
कुछ लोग गुलाब की तरह होते हैं।
Srishty Bansal
💐प्रेम कौतुक-374💐
💐प्रेम कौतुक-374💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ जीवन दर्शन...
■ जीवन दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
कसक ...
कसक ...
Amod Kumar Srivastava
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
गुजर गई कैसे यह जिंदगी, हुआ नहीं कुछ अहसास हमको
gurudeenverma198
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
*कभी होती अमावस्या ,कभी पूनम कहाती है 【मुक्तक】*
*कभी होती अमावस्या ,कभी पूनम कहाती है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
जय जगदम्बे जय माँ काली
जय जगदम्बे जय माँ काली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
DrLakshman Jha Parimal
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
Loading...