Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

वट सावित्री अमावस्या

कुण्डलिया छंद
——————-
नारी की शक्ति अगर, रहे धर्म के साथ ।
कर सकती है काल से, खुद ही दो-दो हाथ।।
खुद ही दो-दो हाथ, पलट सकती विधान को।
यम के मुंह से छीन सके वह सत्यवान को ।।
कहे नवल कविराय, सुखी हों सब व्रतधारी ।
छू लें फिर आकाश, सदा भारत की नारी ।।
✍️- नवीन जोशी ‘नवल’

(स्वरचित एवं मौलिक)

2 Likes · 2 Comments · 381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नवीन जोशी 'नवल'
View all
You may also like:
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
जब मेरा अपना भी अपना नहीं हुआ, तो हम गैरों की शिकायत क्या कर
जब मेरा अपना भी अपना नहीं हुआ, तो हम गैरों की शिकायत क्या कर
Dr. Man Mohan Krishna
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2890.*पूर्णिका*
2890.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
प्यार करता हूं और निभाना चाहता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हिन्दी दोहा बिषय-
हिन्दी दोहा बिषय- "घुटन"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*प्रणय प्रभात*
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
मुश्किलें
मुश्किलें
Sonam Puneet Dubey
Loading...