Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

वटवृक्ष…….!

आज याद आती है-
पिताजी की वो बातें
थकान और तनावग्रस्त आकर
लंबी सांसे ले बिस्तर पर ऐसे बैठना
जैसे-
किसी परिंदे को मिला हो अपना बिछड़ा परिवार
सुकून भरी शाम की चाय
और
माँ की ममतामयी मुस्कान की मिठास के बीच उनका बोलना-
“बहुत मुश्किल है मगरमच्छों के बीच रहना
न जाने कौन ,कब और कहा निगल जाये-
इस संस्कृति की अजीब व्यवस्था है-
यहाँ ज़िन्दगी भी उत्कोच मांगती है|
धन और सिफारिशों के इस खेल में मैं तो विपन्न सा प्रतीत होता हूँ|
कुछ क्षण अपलक शून्य में निहारते-
धीरे से मुस्कुरा कर प्रश्न करना-
भौतिकता के इस युग में, मेरे व्यक्तित्व की नैतिकता क्या अप्रासंगिक है?
सिफारिशों के इस दुर्धर्ष लपट में –
मेरी कर्मठता का हठयोग, क्या अप्रासंगिक है?
इस व्यवहारिकता के पैमाने में-
मेरी मित्रता की परिभाषा, क्या अप्रासंगिक है?
आदर्शों और सिद्धान्तों से सींचा मेरा जीवन, क्या अक्षम्य है?
फिर,
मेरी ओर देख-
उनका यह कहना —
बेटा, तू भी मेरी इन मूल्यों में सींचा मेरा स्वप्न है,
मेरा वटवृक्ष है|
तू तो छाया देगा न?
और मैं, मन ही मन कहता —-
यह छाया आपकी ही तो है
आपको शीतल करने को सदैव तत्पर|

……………..

Language: Hindi
443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन बेहतर बनाए
जीवन बेहतर बनाए
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
दुष्यन्त 'बाबा'
दिवाली का संकल्प
दिवाली का संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Jo kbhi mere aashko me dard bankar
Sakshi Tripathi
टफी कुतिया पे मन आया
टफी कुतिया पे मन आया
Surinder blackpen
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
अभिरुचि
अभिरुचि
Shyam Sundar Subramanian
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज़ादी का जश्न
आज़ादी का जश्न
Shekhar Chandra Mitra
"मजदूर"
Dr. Kishan tandon kranti
3003.*पूर्णिका*
3003.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
सत्य ही सनाान है , सार्वभौमिक
Leena Anand
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
अधूरी मोहब्बत की कशिश में है...!!!!
Jyoti Khari
Loading...