Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

वगिया है पुरखों की याद🙏

वगिया है पुरखों की याद🙏
🍀☘️🌷🌹☘️🍀
नव किसलय का आनन
सुगंधित नव पुष्प आलय

सींची बगिया पुरखों की याद
कलियाँ विकसित खिल सरस

सुगंध बिखराने को पंखुड़ियां
खुली समय पर पुष्प मधुर मधु

भ्रमर भ्रमण प्रेम सद्भाव बरसाने
माली बिन हुई सूनी फतझड़ सी

वगिया मुरझा गईआदार सत्कार
सुंगंध खुशबु पहचान बनाने को

गीता ज्ञान संस्कार लिया पुरखों
पथिक स्मृतियों की यादों सद्भाव

नमन समर्पित करते सूनी वगिया
माली मालिन मालकियत छोड़
काल गति समा गए दोनो पर

आया नहीं नूतन सुमन इस कुंज
गली बदल कहीं और चल बसे

सूनी कुंज विकसित डाली सूख
जलहीन मुरझाए नव यौवन की

विकसित कुसुम कलियां घमण्ड
गर्व दम्भ आहत हो फूलता फूल

झरझरा बगिया व्यथा-कथा भरी
सूनी पतझड़ विरान सी वगिया

भूलकर भी मूल्य नहीं भुलाना है
क्योंकि वगिया है पुरखों की याद ॥

☘️🍀🙏🙏🌷🌹

तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
सब कुछ पा लेने की इच्छा ही तृष्णा है और कृपापात्र प्राणी ईश्
Sanjay ' शून्य'
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
हृदय की बेचैनी
हृदय की बेचैनी
Anamika Tiwari 'annpurna '
ज़िंदगी से गिला
ज़िंदगी से गिला
Dr fauzia Naseem shad
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
कैसी यह मुहब्बत है
कैसी यह मुहब्बत है
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
ओढ़कर कर दिल्ली की चादर,
Smriti Singh
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रास्ते
रास्ते
Ritu Asooja
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
Shweta Soni
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
Rituraj shivem verma
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
*प्रणय प्रभात*
नाम लिख तो लिया
नाम लिख तो लिया
SHAMA PARVEEN
"" *ईश्वर* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...