Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

वक्त गर साथ देता

वक्त गर साथ देता अंधेरे भी उजाले होते
वक्त गर साथ देता हमने गम न पाले होते

कुछ को मिल जाता है बिन मांगे
कुछ को हक भी न मिले
वक्त गर साथ देता सब दौलत वाले होते

किस्मत बनाई खुदा ने कैसी भला
कोई बताए पूछें किस से
वक्त गर साथ देता सब किस्मत वाले होते

‘विनोद’ कौन हूँ क्या हाल है मेरा

वक्त गर साथ देता सबके मुंह पे ताले होते

स्वरचित
( विनोद चौहान )

4 Likes · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
वारिस हुई
वारिस हुई
Dinesh Kumar Gangwar
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
वो कहते हैं की आंसुओ को बहाया ना करो
The_dk_poetry
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
■ 100% तौहीन...
■ 100% तौहीन...
*Author प्रणय प्रभात*
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
जीवन और जिंदगी में लकड़ियां ही
Neeraj Agarwal
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन भर चलते रहे,
जीवन भर चलते रहे,
sushil sarna
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
उर्दू
उर्दू
Shekhar Chandra Mitra
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुष्प की व्यथा
पुष्प की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
खूब ठहाके लगा के बन्दे !
Akash Yadav
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
Loading...