Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2019 · 1 min read

वक्त और करवट

वक्त है
बड़ा बलवान
कब किस
करवट बैठता है
कोई नही जानता
लेता है जब
ये करवट
बना देता है
राजा को रंक

रात
जब लेती है
करवट
उम्मीदों की
रोशनी फैलती है
चहुंओर

उम्र की करवट
रुबरू करा
देती है
जिंदगी की
पहेलियों से
कभी धूप तो
कहीं छाह

नज़ाकत समझो
ऐ इन्सान
वक्त की
लेता है करवट
जब ये
पहुँच जाता है
इन्सान
श्मशान तक

स्वलिखित लेखक संतोष श्रीवास्तव
भोपाल

Language: Hindi
1 Like · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Santosh Shrivastava
View all
You may also like:
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*ससुराल का स्वर्ण-युग (हास्य-व्यंग्य)*
*ससुराल का स्वर्ण-युग (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
समय बहुत है,
समय बहुत है,
Parvat Singh Rajput
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
DrLakshman Jha Parimal
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan sarda Malu
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
प्यार अंधा होता है
प्यार अंधा होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Sakshi Tripathi
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति प्रेमी
प्रकृति प्रेमी
Ankita Patel
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
कवि दीपक बवेजा
Loading...