Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2023 · 1 min read

वक़्त है तू

इख़्तियार में तेरे भी तेरा कुछ भी नहीं ।
वक़्त है तू मुझे मेरी पहचान क्या देगा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
शिव अराधना
शिव अराधना
नवीन जोशी 'नवल'
#रिसर्च
#रिसर्च
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
Dheerja Sharma
If We Are Out Of Any Connecting Language.
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
प्यार
प्यार
Satish Srijan
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
ruby kumari
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्यार तुमसे करते हैं "
Pushpraj Anant
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
Loading...