Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2023 · 1 min read

वक़्त का इतिहास

हमने तो नगमों और ग़ज़लों में
अपने वक़्त का इतिहास लिखा है
फिर भी तुम कहते हो कि इनमें
आख़िर ऐसा क्या खास लिखा है…
(१)
हमारे देश की ऐसी बर्बादी और
समाज की इतनी ज़हालत में
मज़हब से लेकर सियासत तक
किसका-किसका हाथ लिखा है…
(२)
कृष्ण, गौतम और नानक जैसे
जहां पैदा हुए हों लाखों सूरज
वहां कब और कैसे आई थी
यह ज़ुल्मत की रात लिखा है…
(३)
जिनको सदियों से रखा गया
अधिकार और इंसाफ़ से दूर
उन्हीं गूंगे, बहरे और अंधे
अवाम का एहसास लिखा है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#patriotic #नाकाम #सियासत #poet
#bollywood #असफल #दर्द #कवि
#उदास #politics #गीतकार #Shayar
#lyricist #शायरी #कविता #विद्रोही

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
मृत्यु शैय्या
मृत्यु शैय्या
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
छोटे गाँव का लड़का था मैं
छोटे गाँव का लड़का था मैं
The_dk_poetry
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
शक्ति शील सौंदर्य से, मन हरते श्री राम।
आर.एस. 'प्रीतम'
कविता
कविता
Rambali Mishra
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त-ए-शनासाई में
Anis Shah
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
Sonu sugandh
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
■ परिहास / प्रसंगवश....
■ परिहास / प्रसंगवश....
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-508💐
💐प्रेम कौतुक-508💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...