Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

लौट कर न आएगा

आज तू अगर आज को
बदल न पायेगा ।
गया जो आज फिर कभी
लौट कर न आयेगा।।
वक्त रहते वक्त की नज़ाकत
अगर नहीं समझी ।
खुद अपनी ज़ात पर
अफसोस कर न पायेगा !!

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
होकर उल्लू पर सवार
होकर उल्लू पर सवार
Pratibha Pandey
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ञ'पर क्या लिखूं
ञ'पर क्या लिखूं
Satish Srijan
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
ਸ਼ਿਕਵੇ ਉਹ ਵੀ ਕਰਦਾ ਰਿਹਾ
Surinder blackpen
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
मजदूर
मजदूर
Namita Gupta
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अपना दिल
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
इच्छा शक्ति अगर थोड़ी सी भी हो तो निश्चित
Paras Nath Jha
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हो तुम किस ख्यालों में डूबे।
हो तुम किस ख्यालों में डूबे।
Rj Anand Prajapati
Loading...