Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2021 · 2 min read

लौट आओ तो सही

लौट आओ तो सही

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।।

दुःख भरी दास्तान है ये सदियों पुरानी,
रिश्ते-नाते मे छलकती,दर्द की इक निशानी।
विकल व्यग्र पौरुष भुजबल था,
लिखते थे सब अपनी शाश्वत कहानी।
दुखड़ो को संजोने से अब ना फायदा,
अपनी अभिशप्त बगिया में फिर से,
एक बार आकर मुस्कराओ तो सही।।

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।

जादू- टोना दिखा के भरमाया कोई,
पर न अपना इरादा बताया कोई।
कुछ कमी थी यदि इस जमीं पे तभी,
वो कमी कौन पूरा करेगा कभी ।
जग को जीना सिखाया था हमनें यहाँ,
आंसूओं में भी हंसता था सारा जहाँ।
धर्म कुछ भी हो लेकिन, विरासत तो है,
इस विरासत को मिलकर बचाएं सभी।
उसे फिर से झिलमिलाए, तो है सही ।।

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।

व्यर्थ जीवन हुआ, जो दर्शन न मिला,
धर्म को मथने का सटीक माध्यम न मिला।
वेदांतोपनिषद को ठीक से जो परखा नहीं,
पंच ऋणों से हो मुक्ति ये समझा नहीं।
माना ये जीवन है, तक़दीर का आइना,
पर क्यों भूले हम, खुद पे यकीन करना।
तमन्नाओं की महफिल में,खिलखिलाओ तो सही ।।

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।

सभ्यता के धरातल पर विकसित हुए,
संस्कृति के आँचल में हम पल्लवित हुए।
जब ये पूछेगी हमसे, आगे की पीढ़ियां,
कैसे भोले थे मेरे ये पूर्वज यहाँ।
तब कैसे झूठलाओगे निज धर्म की दास्ताँ ,
वक़्त की नजाकत को समझ लो अभी ।
एक बार होश में आओ तो सही।।

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।

रेत सी है फिसलती, ये उम्र भी,
पल गुजरता है इसमें धूप भी छाँव भी।
अपनी बगिया को सिर्फअब सजाने तो हैं,
कल्पित स्वप्नों के श्रृंगार बचाने तो हैं।
अर्जित संस्कारों के सौगात दिलाने भी है,
मिलजुलकर करेंगे अब ये वायदा।
यही गीत मेरे गुनगुनाओ तो सही।।

लौट आओ तो सही..
ज़ख्म तो फिर से भर जाएंगे,
अब अपने चमन में लौट आओ तो सही।

मौलिक एवं स्वरचित
© मनोज कुमार कर्ण ।
कटिहार ( बिहार )

Language: Hindi
9 Likes · 2 Comments · 1966 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
विश्वास
विश्वास
Bodhisatva kastooriya
* लोकार्पण *
* लोकार्पण *
surenderpal vaidya
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
आप की मुस्कुराहट ही आप की ताकत हैं
शेखर सिंह
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
मेरे मन के धरातल पर बस उन्हीं का स्वागत है
ruby kumari
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
फटा जूता
फटा जूता
Akib Javed
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
गीत
गीत
Shiva Awasthi
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
शब्द गले में रहे अटकते, लब हिलते रहे।
विमला महरिया मौज
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
खेतों में हरियाली बसती
खेतों में हरियाली बसती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*Author प्रणय प्रभात*
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...