Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

” लो आ गया फिर से बसंत “

•• लो आ गया फिर से बसंत
——————————-
नीरसता में रस घोल-घोल
कलियों की आंखें खोल-खोल
भरने उर में अनुराग कंत
•• लो आ गया फिर से बसंत

तरुओं में भर-भर कर उमंग
लेकर नव‌‌ पल्लव संग-संग
भरने सृष्टि में विविध रंग
•• लो आ गया फिर से बसंत

कू कू करती कोयल के संग
पुलकित हो तरु के अंग-अंग
करने हेतु नव सृजन अनन्त
•• लो आ गया फिर से बसंत

पतझड़ घावों को भर-भर कर
आनंदित वसुधा को कर कर
“चुन्नू”करने अवसाद अंत
•• लो आ गया फिर से बसंत

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 750 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-331💐
💐प्रेम कौतुक-331💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
नकारात्मक लोगो से हमेशा दूर रहना चाहिए
शेखर सिंह
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🌷 *परम आदरणीय शलपनाथ यादव
🌷 *परम आदरणीय शलपनाथ यादव "प्रेम " जी के अवतरण दिवस पर विशेष
Dr.Khedu Bharti
"प्रेम : दोधारी तलवार"
Dr. Kishan tandon kranti
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...