Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

लोग

बंद किवाड़ो की
दरारों से झाँकते लोग
दीवारों से कान लगाकर
कुछ सुनते -सुनाते लोग
लगाकर उसमें नमक -मिरच
किस्से घडते -घडाते लोग
शब्दों केअभेद्य बांण चलाकर
दिलों को तार-तार कर जाते लोग
न सोचें न समझें
सुनी -सुनाई पर
एक दम, राय बनाते लोग
कभी हँसते साथ
तो कभी वो ही
रुलाते लोग
सामने कुछ,
पीछे कुछ और
यही दोगलापन
दिखाते हैं लोग
अपना समय
बस इसी तरह
बिताते हैं लोग
वाह रे लोग….
वाह रे लोग …..।

Language: Hindi
4 Comments · 395 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shubha Mehta
View all
You may also like:
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
Pramila sultan
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
बसंत
बसंत
Shekhar Chandra Mitra
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2247.
2247.
Dr.Khedu Bharti
खुद को पुनः बनाना
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
पुरखों की याद🙏🙏
पुरखों की याद🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वह सिर्फ पिता होता है
वह सिर्फ पिता होता है
Dinesh Gupta
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
ययाति
ययाति
Satish Srijan
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
Anil chobisa
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
💐अज्ञात के प्रति-85💐
💐अज्ञात के प्रति-85💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#सबक जिंदगी से #
#सबक जिंदगी से #
Ram Babu Mandal
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
*सदा गाते रहें हम लोग, वंदे मातरम् प्यारा (मुक्तक)*
Ravi Prakash
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
"स्वप्न".........
Kailash singh
Loading...