Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

लोग ऐसे दिखावा करते हैं

लोग ऐसे दिखावा करते हैं
जैसे वो कितने खुश और शन्ति से परिपूर्ण है
पर वास्तव में तो एक शोर होता है उनके भीतर
जो उनको शांत नही होने देता है
पर इस बात को स्वीकार करना
सबके बस की बात नहीं हैं
उनको डर होता है लोगों से समाज से
कि कहीं लोग उनको कमजोर न समझ ले
पर वो ये क्यों भूल जाते हैं
समुंदर भी शांत और शोर से भरा है
फिर भी विशाल है
समुंदर ने दुनिया के सामने स्वीकार किया
शांति और शोर को
हर सिक्के के दो पहलू है।।
Ruby kumari

217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त के दामन से दो पल चुरा के दिखा
वक्त के दामन से दो पल चुरा के दिखा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
राजसूय यज्ञ की दान-दक्षिणा
राजसूय यज्ञ की दान-दक्षिणा
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
याद रखते अगर दुआओ में
याद रखते अगर दुआओ में
Dr fauzia Naseem shad
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
धर्म, ईश्वर और पैगम्बर
Dr MusafiR BaithA
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
लगाव
लगाव
Arvina
मुसाफिर
मुसाफिर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
बीतल बरस।
बीतल बरस।
Acharya Rama Nand Mandal
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
Loading...