Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर

लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कुछ दिन बाद दिल से निकल क्यों जाते हैं

एक शाख पर पक्षी का दिल क्यों नहीं लगता
दिन बदलते ही घौंसले बदल क्यों जाते हैं..।

✍️कवि दीपक सरल

2 Likes · 2 Comments · 419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
Kishore Nigam
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
gurudeenverma198
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
*सबसे महॅंगा इस समय, छपवाने का काम (कुंडलिया)*
*सबसे महॅंगा इस समय, छपवाने का काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
Loading...