Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2017 · 1 min read

लोकतंत्र

लोकतंत्र गुलाम है
परिवारवाद का
वंशवाद का
सदियों से और आज भी
मिली आजादी किसे?
सोचो जरा
तुम्हें या इन्हें?
तानाशाह कल भी थे
और आज भी हैं
तरीके बदल गये
देश की चिंता किसे है?
सत्ता की लालच ने
कैद कर रखा है
लोकतंत्र को
संसद रूपी पिज़रे में।
चाबी है इनके हाथों में
जब चाहे चाबी बदल लेते है
लोकतंत्र आश्रित
इसी दो धूरी पर
अब तुम सोचो फिर से
तुम्हारी जगह है कहाँ ?
आजादी मिली किसे ?
तुम आज भी गुलाम हो
इनके बनाये लोकतंत्र में
ऊंच- नीच, भेदभाव, जात पात
और एक रूढ़िवादी विचार में
फिर संभल जाओ
वरना गिरवी रख देगें
लोकतंत्र को ये लालची
तुम गाँघी जी के बन्दर की तरह
अंधे, बहरे और गूंगे बन कर
रह जाओगे
आज भी और कल भी

Language: Hindi
361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
Few incomplete wishes💔
Few incomplete wishes💔
Vandana maurya
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
"वे लिखते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
# नमस्कार .....
# नमस्कार .....
Chinta netam " मन "
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
माल्यार्पण  (हास्य व्यंग)
माल्यार्पण (हास्य व्यंग)
Ravi Prakash
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-504💐
💐प्रेम कौतुक-504💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
जिसमें हर सांस
जिसमें हर सांस
Dr fauzia Naseem shad
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राधे राधे happy Holi
राधे राधे happy Holi
साहित्य गौरव
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम आए हैं भाई रे
राम आए हैं भाई रे
Harinarayan Tanha
Loading...