Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

लोकतंत्र

लोकतंत्र गुलाम है
परिवारवाद का
वंशवाद का
सदियों से और आज भी
मिली आजादी किसे?
सोचो जरा
तुम्हें या इन्हें?
तानाशाह कल भी थे
और आज भी हैं
तरीके बदल गये
देश की चिंता किसे है?
सत्ता की लालच ने
कैद कर रखा है
लोकतंत्र को
संसद रूपी पिज़रे में।
चाबी है इनके हाथों में
जब चाहे चाबी बदल लेते है
लोकतंत्र आश्रित
इसी दो धूरी पर
अब तुम सोचो फिर से
तुम्हारी जगह है कहाँ ?
आजादी मिली किसे ?
तुम आज भी गुलाम हो
इनके बनाये लोकतंत्र में
ऊंच- नीच, भेदभाव, जात पात
और एक रूढ़िवादी विचार में
फिर संभल जाओ
वरना गिरवी रख देगें
लोकतंत्र को ये लालची
तुम गाँघी जी के बन्दर की तरह
अंधे, बहरे और गूंगे बन कर
रह जाओगे
आज भी और कल भी

170 Views
You may also like:
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
अथक प्रयत्न
Dr.sima
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
✍️खुशी✍️
"अशांत" शेखर
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
प्रतीक्षा करना पड़ता।
Vijaykumar Gundal
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
तुम हो
Alok Saxena
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
प्रिय डाक्टर साहब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
✍️कमाल ये है...✍️
"अशांत" शेखर
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
✍️मोहब्बत की राह✍️
"अशांत" शेखर
चिड़ियाँ
Anamika Singh
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
टिप्पणियों ( कमेंट्स) का फैशन या शोर
ओनिका सेतिया 'अनु '
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...