Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

लोकतंत्र में शक्ति

करके नाटक जो पाले रहे
भारी विजय की उम्मीद
कर्नाटक ने मन से किया
उन सबकी मिट्टी पलीद
भाजपा, जद एस दोनों के
सपनों को करके तार तार
जनता ने सबको समझाया
लोकतंत्र में शक्ति है अपार
जिनको धन बल पर दर्प था
वे भी होंगे अब बहुत निराश
अगले पांच साल तक करेंगे
वो खुद में सुधार का प्रयास
लोकतंत्र के मूल्यों में बढ़ेगी
और लोगों की आस्था जरूर
जनकल्याण को तरजीह देंगे
सभी सत्तानशीन भी भरपूर

Language: Hindi
231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
மறுபிறவியின் உண்மை
மறுபிறவியின் உண்மை
Shyam Sundar Subramanian
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
3456🌷 *पूर्णिका* 🌷
3456🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
खालीपन
खालीपन
करन ''केसरा''
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
सुदामा जी
सुदामा जी
Vijay Nagar
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुद्ध पूर्णिमा विशेष:
बुद्ध पूर्णिमा विशेष:
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
...........
...........
शेखर सिंह
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
व्यक्तित्व की दुर्बलता
व्यक्तित्व की दुर्बलता
Dr fauzia Naseem shad
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – पंचवटी में प्रभु दर्शन – 04
Sadhavi Sonarkar
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
बादलों पर घर बनाया है किसी ने...
बादलों पर घर बनाया है किसी ने...
डॉ.सीमा अग्रवाल
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
#गीत-
#गीत-
*प्रणय प्रभात*
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
"तेजाब"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...