Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

लोकतंत्र की अवाम

यूं हक लोकतंत्र का अता होता ही रहा l
रोशनी मिलती रही घर जलता ही रहा ll

जड़ों में थी दीमक हवा में धुंआ भी l
ऐसे पौधे को लहू से सीचता ही रहा ll

सागर की कुछ मछलियां सागर ही पी गईl
साथ पतवार फिर भी किनारे ही रहाll

वह अब भी करता है दावा रहनुमा होने काl
जो कुबेर की राजधानी में भटकता ही रहा ll

देश की अवाम “सलिल” बकरा हलाल का l
कोई न कोई गर्दन पर छुरी चलाता ही रहा ll

संजय सिंह “सलिल ”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश ll

320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
"Strength is not only measured by the weight you can lift, b
Manisha Manjari
नवम्बर की सर्दी
नवम्बर की सर्दी
Dr fauzia Naseem shad
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मियाद
मियाद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"छलनी"
Dr. Kishan tandon kranti
विवेक
विवेक
Sidhartha Mishra
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
* भावना स्नेह की *
* भावना स्नेह की *
surenderpal vaidya
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
पंचगव्य
पंचगव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
*रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*रहते परहित जो सदा, सौ-सौ उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
■ पाठक लुप्त, लेखक शेष। मुग़ालते में आधी आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
मात-पिता केँ
मात-पिता केँ
DrLakshman Jha Parimal
Loading...