Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 3 min read

लैपटॉप

लघु कथा
लैप टाॅप
सोने की बहुत कोशिश कर रही थी पर नींद आ ही नहीं आ रही थी मालूम नहीं किस कोने में छिप कर बैठ गयी है मेरी नींद। नमन मेरे पति काफी देर पहले ही सो गये थे। समझ नहीं आ रहा था क्या करूं पत्रिकाओं को भी उलट पलट कर देख लिया था। आज कल पत्रिकायें भी कमाने का धन्धा बन गयीं हैं। पढ़ने की चीजें कम फालतू के विज्ञापन ज्यादा होते हैं।
लैप टाॅप उठाया देखूं फेसबुक पर या फिर स्काई पी पर ही कोई मिल जाये गप्पें ही लगाने को मिल जायेंगी। मैंने जैसे ही स्काई पी लगाया तो देखा सिद्धार्थ मेरा बेटा आॅन लाइन ही था।
मैंने उसे अपने स्काई पी पर कनैक्ट कर ही लिया मुझे देखते ही बोला ‘‘हैलो मम्मी क्या हो रहा है सुना है देहरादून में बहुत ठंड हो रही है। कैसे चल रहा है वहाँ? पापा कैसे हैं वह तो सो गये होगे आप नहीं सोयीं अभी तक रात के ग्यारह बज रहे हैं।’’
हाँ बेटा आजकल नींद ही नहीं आती है। ऐसे ही करवट बदलती रहती हूं सुबह के समय आती भी है तब तक उठने का टाइम हो जाता है। और तू बता वहाँ कनाडा में मौसम कैसा है? वहाँ भी तो ठंड बहुत पड़ रही है। शून्य में चला जाता होगा वहाँ का तापमान ’’
‘‘हाँ मम्मी माइनस थर्टी चल रहा है आजकल तो पर, यहाँ कोई परेशानी नहीं होती हर जगह तो हीटर लगे होते हैं यहाँ के घर, सारे आॅफिस सेन्ट्रली हीटिंग सिस्टम पर काम करते है। यहाँ तक कि बच्चों के स्कूल भी। मम्मी आप की आँखें क्यों सूज रहीं हैं रोयी हैं क्या आप?’’
यह कह कर उसने रीना और बेटी चिंकी को भी बुला लिया था स्काई पी पर……..।
‘‘गुड मोर्निंग मम्मी कैसी है? आप बहुत कमजोर लग रहीं हैं क्या हुआ तबियत तो ठीक है?’’ यह बहू रीना की आवाज थी
मैंने बात को घुमाना चाहा ‘‘मैं ठीक हूं तुम कैसी हो? चिंकी तो अब स्कूल जाने लगी होगी?’’
‘‘ हाँ मम्मी अब वह स्कूल जाने लगी है’’
मैंने ही पूछा ‘‘ यह बताओ तुम लोग कब आ रहे हो इंडिया तुमसे मिलने का अब बहुत मन करता है’’
मुझे लग रहा था कि मेरा पूरा परिवार ही मेरे बिस्तर पर ही आ कर बैठ गया है।
बहू बेटा और मेरी लाडली पोती। आज कल टैक्नोलोजी कितनी प्रगति कर गयी है सब हुछ सैकिन्ड के अन्दर हाथ में ही मिल जाता है।
‘‘माँ हम लोग मन बना तो रहे हैं इन्डिया आने का पर कब तक पहुच पायेंगे यह निश्चित नहीं है।’’
‘‘ फिर भी कितना ?’’
‘‘शायद छः महीने तो लग ही जायेंगे’’
मैंने गहरी साँस ली और बोला‘‘छः महीने ………अभी तो बहुत लम्बा टाइम है फिर तो’’
‘‘क्यों मम्मी क्या हुआ? मैं आरहा हूं ना आप लोगों के पास। फिर आप क्यों चिन्ता कर रही हैं’’
‘‘ अच्छा बेटा अब बहुत जोरों से नींद आने लगी है अब सोती हूं’’ और मैंने इन्टरनेट कनैक्शन काट दिया था आँखों से आँसू बहने लगे थे मैंने लैप टाॅप को अपने सीने से लगा लिया था। लग रहा था जैसे मैंने पूरे परिवार को ही सीने से लगा लिया है।
बेटा तब तक तो बहुत देर हो जायेगी कैन्सर अपनी आखिरी स्टेज पर पहुंच चुका है
मन ही मन बुदबुदा रही थी मैं, लग रहा था मैंने अपना दुख अपने बेटे तक पहुचा दिया हैं
आभा

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
4 Likes · 3 Comments · 429 Views
You may also like:
गम छुपाए रखते है।
Taj Mohammad
🌺🌸प्रेम की राह पर-65🌸🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पंजाबी गीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां शारदे को नमन
bharat gehlot
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
ज़ाफ़रानी
Anoop 'Samar'
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
*एक शेर*
Ravi Prakash
मेरी वाणी
Seema 'Tu hai na'
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
मेरी गुड़िया
लक्ष्मी सिंह
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
अंतर्द्वंद्व
मनोज कर्ण
मां महागौरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाति प्रथा का अंत
Shekhar Chandra Mitra
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
✍️गलत बात है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
बुढापा
सूर्यकांत द्विवेदी
बहुत उम्मीद रखना भी
Dr fauzia Naseem shad
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इंतज़ार
Alok Saxena
Loading...