Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 3 min read

लैपटॉप

लघु कथा
लैप टाॅप
सोने की बहुत कोशिश कर रही थी पर नींद आ ही नहीं आ रही थी मालूम नहीं किस कोने में छिप कर बैठ गयी है मेरी नींद। नमन मेरे पति काफी देर पहले ही सो गये थे। समझ नहीं आ रहा था क्या करूं पत्रिकाओं को भी उलट पलट कर देख लिया था। आज कल पत्रिकायें भी कमाने का धन्धा बन गयीं हैं। पढ़ने की चीजें कम फालतू के विज्ञापन ज्यादा होते हैं।
लैप टाॅप उठाया देखूं फेसबुक पर या फिर स्काई पी पर ही कोई मिल जाये गप्पें ही लगाने को मिल जायेंगी। मैंने जैसे ही स्काई पी लगाया तो देखा सिद्धार्थ मेरा बेटा आॅन लाइन ही था।
मैंने उसे अपने स्काई पी पर कनैक्ट कर ही लिया मुझे देखते ही बोला ‘‘हैलो मम्मी क्या हो रहा है सुना है देहरादून में बहुत ठंड हो रही है। कैसे चल रहा है वहाँ? पापा कैसे हैं वह तो सो गये होगे आप नहीं सोयीं अभी तक रात के ग्यारह बज रहे हैं।’’
हाँ बेटा आजकल नींद ही नहीं आती है। ऐसे ही करवट बदलती रहती हूं सुबह के समय आती भी है तब तक उठने का टाइम हो जाता है। और तू बता वहाँ कनाडा में मौसम कैसा है? वहाँ भी तो ठंड बहुत पड़ रही है। शून्य में चला जाता होगा वहाँ का तापमान ’’
‘‘हाँ मम्मी माइनस थर्टी चल रहा है आजकल तो पर, यहाँ कोई परेशानी नहीं होती हर जगह तो हीटर लगे होते हैं यहाँ के घर, सारे आॅफिस सेन्ट्रली हीटिंग सिस्टम पर काम करते है। यहाँ तक कि बच्चों के स्कूल भी। मम्मी आप की आँखें क्यों सूज रहीं हैं रोयी हैं क्या आप?’’
यह कह कर उसने रीना और बेटी चिंकी को भी बुला लिया था स्काई पी पर……..।
‘‘गुड मोर्निंग मम्मी कैसी है? आप बहुत कमजोर लग रहीं हैं क्या हुआ तबियत तो ठीक है?’’ यह बहू रीना की आवाज थी
मैंने बात को घुमाना चाहा ‘‘मैं ठीक हूं तुम कैसी हो? चिंकी तो अब स्कूल जाने लगी होगी?’’
‘‘ हाँ मम्मी अब वह स्कूल जाने लगी है’’
मैंने ही पूछा ‘‘ यह बताओ तुम लोग कब आ रहे हो इंडिया तुमसे मिलने का अब बहुत मन करता है’’
मुझे लग रहा था कि मेरा पूरा परिवार ही मेरे बिस्तर पर ही आ कर बैठ गया है।
बहू बेटा और मेरी लाडली पोती। आज कल टैक्नोलोजी कितनी प्रगति कर गयी है सब हुछ सैकिन्ड के अन्दर हाथ में ही मिल जाता है।
‘‘माँ हम लोग मन बना तो रहे हैं इन्डिया आने का पर कब तक पहुच पायेंगे यह निश्चित नहीं है।’’
‘‘ फिर भी कितना ?’’
‘‘शायद छः महीने तो लग ही जायेंगे’’
मैंने गहरी साँस ली और बोला‘‘छः महीने ………अभी तो बहुत लम्बा टाइम है फिर तो’’
‘‘क्यों मम्मी क्या हुआ? मैं आरहा हूं ना आप लोगों के पास। फिर आप क्यों चिन्ता कर रही हैं’’
‘‘ अच्छा बेटा अब बहुत जोरों से नींद आने लगी है अब सोती हूं’’ और मैंने इन्टरनेट कनैक्शन काट दिया था आँखों से आँसू बहने लगे थे मैंने लैप टाॅप को अपने सीने से लगा लिया था। लग रहा था जैसे मैंने पूरे परिवार को ही सीने से लगा लिया है।
बेटा तब तक तो बहुत देर हो जायेगी कैन्सर अपनी आखिरी स्टेज पर पहुंच चुका है
मन ही मन बुदबुदा रही थी मैं, लग रहा था मैंने अपना दुख अपने बेटे तक पहुचा दिया हैं
आभा

Language: Hindi
4 Likes · 3 Comments · 565 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
तेरे दुःख की गहराई,
तेरे दुःख की गहराई,
Buddha Prakash
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
*गाथा बिहार की*
*गाथा बिहार की*
Mukta Rashmi
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
शोर से मौन को
शोर से मौन को
Dr fauzia Naseem shad
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
Loading...