Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा ज

लेखनी को श्रृंगार शालीनता ,मधुर्यता और शिष्टाचार से संवारा जाता है ..अभद्रता उसको कभी भाती नहीं है@परिमल

525 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शब्दों का महत्त्व
शब्दों का महत्त्व
SURYA PRAKASH SHARMA
शहर के लोग
शहर के लोग
Madhuyanka Raj
अब देख लेने दो वो मंज़िल, जी भर के साकी,
अब देख लेने दो वो मंज़िल, जी भर के साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
◆कुटिल नीति◆
◆कुटिल नीति◆
*प्रणय प्रभात*
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
Anil chobisa
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
तुम्हारे साथ,
तुम्हारे साथ,
हिमांशु Kulshrestha
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
I guess afterall, we don't search for people who are exactly
पूर्वार्थ
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
manjula chauhan
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
इश्क की गलियों में
इश्क की गलियों में
Dr. Man Mohan Krishna
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
हिंदी दिवस पर हर बोली भाषा को मेरा नमस्कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
कौन यहाँ पर किसकी ख़ातिर,, बैठा है,,
कौन यहाँ पर किसकी ख़ातिर,, बैठा है,,
Shweta Soni
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
Dear Moon.......
Dear Moon.......
R. H. SRIDEVI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
Loading...