Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है

लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
जून खता यह हर बार करता है ।
a m prahari

314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
"गुलामगिरी"
Dr. Kishan tandon kranti
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
बख्श मुझको रहमत वो अंदाज मिल जाए
VINOD CHAUHAN
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ आज का खुलासा...!!
■ आज का खुलासा...!!
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Mr.Aksharjeet
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
sushil sarna
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...