Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2023 · 1 min read

लिव-इन रिलेशनशिप

(1)
मात-पिता को त्याग कर,खुद हो गई अनाथ।
सोचे समझे ही बिना,चल दी प्रेमी साथ।
बड़ा भयानक भेड़िया,प्रेमी निकला दुष्ट।
नित-दिन तन-मन नोचता,और उठाता हाथ।।
(2)
मन के अंदर था भरा, कुंठा और विकार।
थी शिक्षा में कुछ कमी,भूल गई संस्कार।।
सरल सुता माँ बाप की,कठपुतली उस हाथ।
समझ न पाई दुष्ट को,किया नहीं इन्कार।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 2 Comments · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
वो कपटी कहलाते हैं !!
वो कपटी कहलाते हैं !!
Ramswaroop Dinkar
दृष्टि
दृष्टि
Ajay Mishra
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
2649.पूर्णिका
2649.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अब हक़ीक़त
अब हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
"आज की रात "
Pushpraj Anant
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
Expectation is the
Expectation is the
Shyam Sundar Subramanian
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
शोभा वरनि न जाए, अयोध्या धाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
Rajesh Tiwari
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*Author प्रणय प्रभात*
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
किराये के मकानों में
किराये के मकानों में
करन ''केसरा''
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
Loading...