Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

लिख देती है कवि की कलम

लिख देती है कवि की कलम
किसी के भी दर्द को अपना समझ के,
पढ़ने वाला नासमझ गढ़ लेता है
कवि के जीवन की कहानी बना के।
यही तो खूबी है कलम थामने वाले की,
उफ़ तक न करते सामने ताव में आ के।
-सीमा गुप्ता अलवर राजस्थान

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
"मौका मिले तो"
Dr. Kishan tandon kranti
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
*नहीं हाथ में भाग्य मनुज के, किंतु कर्म-अधिकार है (गीत)*
Ravi Prakash
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
अपना मन
अपना मन
Neeraj Agarwal
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
मेरे कुछ मुक्तक
मेरे कुछ मुक्तक
Sushila joshi
नारी और चुप्पी
नारी और चुप्पी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
"" *चाय* ""
सुनीलानंद महंत
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
Suryakant Dwivedi
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
Dushyant Kumar
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
Loading...