Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

लिखा है किसी ने यह सच्च ही लिखा है

लिखा है किसी ने यह सच ही लिखा है
किसी की खुशी कोई कब देखा है

यहाँ देते हैं गम मोहब्बत के बदले
या इल्ज़ाम देंगे शराफत के बदले
दिल तोड़ कर हर कोई फेंकता है
किसी की खुशी कोई कब देखा है

मुँह मोड़ के पल में रस्ता बदल लें
रस्ता ही क्या पूरी दुनिया बदल लें
यह सारा जहां एक बहरूपिया है
किसी की खुशी कोई कब देखा है

कीमत बड़ी है इस जहां में हुस्न की
कीमत चुकाते सब यहाँ पे इश्क की
कोई देखता है तो मिलती सजा है
किसी की खुशी कोई कब देखा है

सब रूठ जाते हैं बिना कुछ कहे ही
चले जाते हैं सब बिना कुछ कहे ही
ना प्यार ना ही बेरुखी का पता है
किसी की खुशी कोई कब देखा है

हमने भी चाहा था जहां में किसी को
दिल-विल दिया था यहाँ पे किसी को
मगर क्या पता था कि वह बेवफा है
किसी की खुशी को कोई कब देखा है

स्वरचित
V9द चौहान

2 Likes · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
*प्रणय प्रभात*
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
" संगत "
Dr. Kishan tandon kranti
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
पुरानी पेंशन
पुरानी पेंशन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
रम्मी खेलकर लोग रातों रात करोड़ पति बन रहे हैं अगर आपने भी स
Sonam Puneet Dubey
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
करने दो इजहार मुझे भी
करने दो इजहार मुझे भी
gurudeenverma198
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
हम और तुम जीवन के साथ
हम और तुम जीवन के साथ
Neeraj Agarwal
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
🇮🇳 🇮🇳 राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
Loading...