Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 3 min read

लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख

लार्जर देन लाइफ़ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक ”

बॉलीवुड सिनेमा में सफलता की ग्यारंटी अच्छी पटकथा के साथ साथ स्थापित कलाकारों की मौजूदगी भी है ऐसा इसलिए भी कह सकते हैं कि महज कुछ फ़िल्में सुपरस्टार्स की वजह से दर्शकों के आकर्षण का केंद्र रहीं। दिलीप कुमार, देव आनंद , राजेश खन्ना , अमिताभ बच्चन , विनोद खन्ना, सलमान खान , आमिर खान , अक्षय कुमार जैसे दिग्गजों की भी कुछ फ़िल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर हलचल तो पैदा की लेकिन अच्छे कंटेंट के अभाव मे फ्लॉप साबित हुई। जिस तरह फिल्मों मे दमदार नायक की प्रधानता होती थी तो अस्सी के दशक से सिनेमा में नायक के विरोधी के रूप में शक्तिशाली खलनायक की कमी भी खलने लगी । जितना बड़ा नायक, उतना ही मज़बूत किरदार खलनायक का भी । बॉलीवुड मे
प्राण साहब, के एन सिंह , अमजद खान, शक्ति कपूर जैसे खलनायकों ने सिनेमा के पर्दे पर अपनी खलनायकी से न केवल अपना दबदबा क़ायम किया बल्कि लोगों की नफरतों का सामना इस हद तक करा कि कोई माँ अपने बेटे का नाम प्राण, शक्ति या अमजद नहीं रखना चाहती थी। रमेश सिप्पी की ब्लॉकबस्टर मूवी शोले में गब्बर सिंह डाकू के किरदार को अमजद खान साहब ने अमर कर दिया। उसके बाद हिंदी सिनेमा में खलनायकी की परिभाषा बदली और अब खलनायक का किरदार पहले से ज़्यादा खूंखार , क्रूर और दहशत पैदा करने वाला पेश किया गया, जिसने खलनायक को लार्जर देन लाइफ करैक्टर मे ढाला और वो खलनायक पात्र आज भी फ़िल्म के नायक नायिका से अधिक पसंद किये जाते है, और खलनायक के किरदार का महिमामंडन किया शोमैन सुभाष घई साहब ने। सुभाष घई ने कर्मा में अनुपम ख़ैर साहब को देशद्रोही डॉ डेंग, क़र्ज़ मे प्रेम नाथ साहब को
सर जूडा, कालीचरण मे अजीत साहब को लायन, सौदागर मे अमरीश पुरी जी को चुनिया मामा, राम लखन मे गुलशन ग्रोवर को केसरिया विलायती, रज़ा मुराद को सर जॉन और अमरीश पुरी को बिशम्भर तथा त्रिमूर्ति मे मोहन अगाशे को कूका जैसे दमदार विलेन का रोल देकर ये साबित कर दिया कि फ़िल्म के खलनायक चरित्र के साथ भी प्रयोग किये जा सकते है और वो दर्शकों के ज़ेहन मे सिहरन भी पैदा कर सकते हैं । विलेन के किरदार मे अमरीश पुरी ने मि. इंडिया मे मोगैम्बो को युगों युगों तक जीवंत कर दिया। बॉलीवुड मे विलेन का क्रेज़ शुरूआती दौर से रहा है लेकिन समय के साथ प्रयोगवादी नज़रिये ने खलनायक को नायक की बराबरी मे खड़ा कर दिया। फ़िल्म निर्देशक महेश भट्ट ने 1991 मे फ़िल्म सड़क से सदाशिव अमरापुरकर को महारानी के किरदार( जो कोठा चलाने वाला एक किन्नर है ) मे पेश कर विलेन की परिभाषा ही बदल कर रख दी ।
उसके बाद आशुतोष राणा का दौर आया और उन्होंने दुश्मन मे गोकुल पंडित तथा संघर्ष मे लज्जा शंकर पाण्डेय का नकारात्मक किरदार निभाकर न केवल सारे अवार्ड्स जीते बल्कि समाज की बुराई के प्रतीक उनके ये दो किरदार दर्शकों के दिलो दिमाग़ पर छा गये। उसके बाद अभिनेता संजय दत्त ने जब अग्निपथ के रीमेक मे काँचा का, शमशेरा मे दरोगा शुद्ध सिंह और के जी एफ पार्ट 2 मे अधीरा जैसे विलेन का किरदार निभाकर बॉलीवुड के बड़े विलेन की दुकान बंद कर दी. कुल मिलाकर आज बॉलीवुड को विलेन के किरदार भी
लार्जर देन लाइफ चाहिये जो न केवल दर्शकों को डरा सके बल्कि सालों साल दर्शकों के ज़ेहन मे मेहफूज़ भी रहे
आने वाली फिल्मों मे आदिपुरुष मे सैफ अली खान, लंकेश के किरदार मे नज़र आयेंगे। शाहरुख़ की जवान मे विजय सेतुपति भी खलनायक के किरदार मे दिखाई देंगे

© डॉ वासिफ़ काज़ी [ शाइर एवं फ़िल्म समीक्षक ]
©काज़ी की कलम

28/3/2, अहिल्या पल्टन , इक़बाल कॉलोनी
इंदौर, मध्य प्रदेश

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
या इलाही फ़ैसला कर दे….
या इलाही फ़ैसला कर दे….
parvez khan
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
हम उन्हें कितना भी मनाले
हम उन्हें कितना भी मनाले
The_dk_poetry
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
राजनीती
राजनीती
Bodhisatva kastooriya
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बस तुम
बस तुम
Rashmi Ranjan
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
माफ करना, कुछ मत कहना
माफ करना, कुछ मत कहना
gurudeenverma198
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
"बहुत है"
Dr. Kishan tandon kranti
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...