Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं

लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं नौ से पांच की नौकरी में, कोचिंग कारखानों के पोस्टरों में, कंधे पर बैग टांगे, जेनरल डब्बों की भीड़ में।

दीपक की तरह फुल इंग्लिश में अपनी फूल को आई लव यू बोलने का सपना हमारा भी रहा है। पर हमारी फूल तो हमारे सामने ब्याह दी गई किसी शहर वाले प्रमोद से और हम उसे चाहकर भी ढूँढ नहीं पाए।

“मां तुम्हारे लिए खाना है न!” पूछकर ही खाया पहला निवाला, बाबूजी की उम्मीदें सर पर उठाकर चलते रहे, यार दोस्तों को कभी ना नहीं कहा पर फिर भी कहीं गुम होकर रह गए।

खुद लापता रहे पर हमेशा कोशिश रही कि किसी फूल, जया या स्टेशन वाली अम्मा के चेहरे की मुस्कान बन पाएँ।

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जवाब ना दिया
जवाब ना दिया
Madhuyanka Raj
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
gurudeenverma198
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
"ले जाते"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
Dinesh Kumar Gangwar
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#सामयिक_कविता:-
#सामयिक_कविता:-
*प्रणय प्रभात*
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
Sonam Puneet Dubey
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
The best time to learn.
The best time to learn.
पूर्वार्थ
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3299.*पूर्णिका*
3299.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कलम की दुनिया
कलम की दुनिया
Dr. Vaishali Verma
*पेड़ (पाँच दोहे)*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
जिसके हर खेल निराले हैं
जिसके हर खेल निराले हैं
Monika Arora
Loading...