Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2023 · 1 min read

लहर आजादी की

वो नीला आसमान और आसमान में लहराता तिरंगा…
आज फिर स्मरण हो आई माँ भारती के चरणों की गंगा।

सारे देश में खुशियां फैली हैं हर डगर पर…
ओढ़नी वतन के रंग की ओढ़ी है सबने अपने सर पर,

आज आँखों के आगे खुशियों का मौसम आया…
ये दिन आजादी वाला उत्साह साथ लाया,

इस तीन रंग के मौसम ने सबको ख़ुद में रंग डाला…
जब तीन रंग का लहरा तिरंगा वतन तिरंगा कर डाला,

हर मंच ने हर्ष उल्लास से विजय गान को गाया…
ये दिन आजादी वाला लहर आज़ादी की लाया।।

1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुझको शिकायत है
मुझको शिकायत है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
#सच_स्वीकार_करें.....
#सच_स्वीकार_करें.....
*Author प्रणय प्रभात*
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
नयकी दुलहिन
नयकी दुलहिन
आनन्द मिश्र
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
फ़ितरत-ए-धूर्त
फ़ितरत-ए-धूर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...