Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 2 min read

लम्हे

बापू की अपेक्षाओं
का बोझ लादे
सतरंगी सपनें संजोये
मैं पढ़ने बनारस
आ गया था
पर चाह कर भी कुछ
विशेष कर नहीं
पा रहा था।

साहित्य का प्रेमी मै
मेरा मन विज्ञान
से भटक रहा था
लाख कोशिशों के बाद
भी स्वयं को मैं इस
परिस्थितियों से समायोजित
नहीं कर पा रहा था।

हताश आज भी
जीवन का वो लम्हा
मुझे भूलता नहीं
जब मंदाकिनी के तट
पर उदास बैठा
सोच रहा था, क्या
गलत है या क्या सही ?

उस मंजिल की
तलाश में
जिसका मुझे कुछ भी
पता नही था
बापू की उम्मीद व भय
मुझे दिन ब दिन खाये
जा रहा था
निराश तब मैंने
एकाएक इस तीव्र
झंझावत से बचने हेतु
मैंने स्वयं अपने
को समाप्त करने का
एक अनचाहा निर्णय
ले लिया था।

एक अजीब सा
विप्लव व कशमकश
स्वयं पर भी चल नही
रहा था कोई वश।
अचानक माँ की वह सीख
कानों में गूंज उठी
बाबू जब कभी जी घबराये
बस मुझे याद कर लेना
मेरे चेहरे को अपने
सामने रख लेना।

इस खयाल के साथ
मेरी माँ अदृश्य रूप में
मेरे समक्ष खड़ी थी
मुझे देख कर हँस रही थी।
बोली निर्मेष तुम
इतने तो कमजोर नहीं हो
अपने को समाप्त
करने के पूर्व मेरे बारे में
क्या सोचे हो ?

आजीवन पुत्रशोक में
मैं जलती रहूँ
लोगो के उलाहने
और ताने सुनती रहूँ
बापू तेरे कहीं मुहँ
दिखाने लायक न रहे
बस ताने सुनते ही उनका
साधु सा जीवन बीते
कृष्णा किसे राखी
अब बाँधेगी
तुम्हारे पीछे कितनी
विपत्तियां हाथ धोकर
हमारे पीछे पड़ेगी।

तुम्हारे न होने से हम पर
क्या क्या फर्क पड़ेगा?
इसका अंदाजा
तुम्हे बेशक नहीं होगा।
बूढ़े बाप को किसका
सहारा होगा
मेरी और कृष्णा का
भविष्य दावँ पर लगेगा।

बेटा छोड़ो तुम्हे जो
रुचिकर लगे
वही करो
पर बेटा अपने को
समाप्त करने की कल्पना
भी मत करों।
पापा को मैं मना लूँगी
बस तुम अपना
खयाल रखो।

वो दिन और वो जीवन
का लम्हा आज भी
मुझे भूलता नहीं
आज एक आइटियन
से कहीं अच्छा हूँ
जो विदेशों से अपने
माँ-बापू के मौत के
खबर पर ही आते है
क्रियाकर्म के उपरांत
तुरत निकल जाते हैं।

निर्मेष मुझे गर्व है
कि आज भी मैं अपनी
माँ का बच्चा हूँ
बहुत से मेडिकल व
ऐसे आइटियन
से कहीं अच्छा हूँ।

निर्मेष

244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
Dr fauzia Naseem shad
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
𝕾...✍🏻
𝕾...✍🏻
पूर्वार्थ
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2988.*पूर्णिका*
2988.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
*भरे मुख लोभ से जिनके, भला क्या सत्य बोलेंगे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
Loading...