Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

लम्हा-लम्हा

लम्हा-लम्हा हमने भी जीना सीख लिया ।
या यूं कहिए बस आंसू पीना सीख लिया।

भूल कर बात पुरानी आगे रखा है कदम ।
बेवफा देख ज़रा,अब नहीं भरते तेरा दम।

कितनी बार जीये,कितनी बार मरे कोई ।
हंसे कोई कैसे ,जब आंसू आंख भरे कोई।

याद क्यों करूं मैं अब,जब वो भी भूल गया।
टूटा सपना जाने क्यों, आंखों में झूल गया।

खुदा‌ से था तुमको मांगा हमने कभी बार बार
फिर सब्र मांगा हमने,बची न कोई तकरार।

सुरिंदर कौर

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
Aadarsh Dubey
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
gurudeenverma198
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
■ एक शेर में जीवन दर्शन।
*Author प्रणय प्रभात*
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
जीवन का इतना
जीवन का इतना
Dr fauzia Naseem shad
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
आँखे नम हो जाती माँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
Sushil Pandey
???
???
शेखर सिंह
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
पिता
पिता
Dr Manju Saini
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
Ram Krishan Rastogi
Do you know ??
Do you know ??
Ankita Patel
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
ruby kumari
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
बाल कविता: मेलों का मौसम है आया
Ravi Prakash
Loading...