Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

लफ्ज़

लफ्जों का जिंदगी में अहम महत्व होता है,
लफ्ज़ अगर अच्छे हों तो जिंदगी संवर जाती है,
और लफ्ज़ अच्छे न हो तो ज़िंदगी बिगड़ जाती है।
लफ्जों का जिह्वा और व्यक्तित्व से खास ताल्लुक होता है,
लफ्ज़ अच्छे हों तो समाज में व्यक्ति की इज़्ज़त बनी रहती है,
अन्यथा समाज के लोग गलत लफ्जों के कारण व्यक्ति के व्यक्तित्व को जलील करते हैं,
गलत लफ्जों के कारण देश की रिश्ते भी तार तार हो जाते हैं,
विदेश नीति भी लफ्जों का हो फलसफा है,
इसलिए,
अपने लफ्जों पर लगाम बनाए रखो,
ताकि,
अपनी इज्जत अपने हाथ बनी रहे।

घोषणा – उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक ग्रुप या व्हाट्स ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर
भाषा अधिकारी
निगमित निकाय भारत सरकार
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
1 Like · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम रट गये  जुबां पे,
तुम रट गये जुबां पे,
Satish Srijan
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ इन दिनों...
■ इन दिनों...
*Author प्रणय प्रभात*
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
2635.पूर्णिका
2635.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...