Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

*लटके-झटके इनके सौ-सौ, दामादों की मत पूछो (हास्य गीत)*

लटके-झटके इनके सौ-सौ, दामादों की मत पूछो (हास्य गीत)
_________________________
लटके-झटके इनके सौ-सौ, दामादों की मत पूछो
1
सर्वप्रथम यह तुनके इस पर, कार नहीं पाई है
फिर यह बोले नगद-राशि, थाली में कम आई है
कब-कब बिदके बिना बात यह, उन यादों की मत पूछो
2
यह आते ससुराल बवंडर, जैसे नभ मे छाते
खातिरदारी में डर कर सब, ससुर-सास लग जाते
जिह्वा गजब चटोरी इनकी, सुस्वादों की मत पूछो
3
बिना सिकोड़े नाक नहीं, ससुराल-शयन होता है
इनके मॉंगपत्र को पढ़कर सारा घर रोता है
करने पड़ते हैं जो इनसे, उन वादों की मत पूछो
लटके-झटके इनके सौ-सौ, दामादों की मत पूछो
———————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
चुप
चुप
Ajay Mishra
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
■ परिहास...
■ परिहास...
*Author प्रणय प्रभात*
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
पापा की गुड़िया
पापा की गुड़िया
Dr Parveen Thakur
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"विषधर"
Dr. Kishan tandon kranti
Who Said It Was Simple?
Who Said It Was Simple?
R. H. SRIDEVI
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
"पँछियोँ मेँ भी, अमिट है प्यार..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
अनजान बनकर मिले थे,
अनजान बनकर मिले थे,
Jay Dewangan
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आंसुओं के समंदर
आंसुओं के समंदर
अरशद रसूल बदायूंनी
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" हम तो हारे बैठे हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
ओकरा गेलाक बाद हँसैके बाहाना चलि जाइ छै
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
💐प्रेम कौतुक-552💐
💐प्रेम कौतुक-552💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*ऋष्यमूक पर्वत गुणकारी :(कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋष्यमूक पर्वत गुणकारी :(कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
Loading...