Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

#लघु कविता

#लघु कविता
■ मुझमें कौन नहीं…?
【प्रणय प्रभात】
“न्याय भावना अलगू वाली
दृढ़ता मानो पत्थर सी।
दया काबुली वाले जैसी
मासूमो में जान बसी।।
धनिया वाले होरी सा
अंतर्मन सच्चा रखता हूँ।
ईदगाह वाले हामिद सा
दिल मे बच्चा रखता हूँ।
वंशीधर हूँ मुझे
अलोपीदीन सुहाएंगे कैसे?
मैं सिरचन सा बतला मुझको
ताने भाएँगे कैसे??”7
हिंदी कथा साहित्य की कुछ कालजयी कथाओं के किरदार, जो मुझमें गहराई तक बसते हैं। उनके प्रति समर्पित एक छोटी सी कविता, जो अभी अधूरी है, किंतु आज इसे प्रस्तुत करने का मन है। शायद मौक़ा भी। इसे आप मेरा संक्षिप्त परिचय भी मान सकते हैं। आज जीवन के 56 वर्ष पूर्ण हुए। प्रभु श्री राम जी की कृपा से।।

2 Likes · 2 Comments · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
मौन मुसाफ़िर उड़ चला,
sushil sarna
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
'अशांत' शेखर
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कौन कितने पानी में
कौन कितने पानी में
Mukesh Jeevanand
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
विवशता
विवशता
आशा शैली
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
😢 अच्छे दिन....?
😢 अच्छे दिन....?
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
वक्त
वक्त
लक्ष्मी सिंह
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
मैं
मैं
Ranjana Verma
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
3148.*पूर्णिका*
3148.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
“आखिर मैं उदास क्यूँ हूँ?
DrLakshman Jha Parimal
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
उसके किरदार की खुशबू की महक ज्यादा है
कवि दीपक बवेजा
Loading...