Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 2 min read

#लघुकथा-

#लघुकथा-
■ संख्या की सच्चाई…।
【प्रणय प्रभात】
एक क़रीबी मित्र की बेटी के विवाह में उपहार के रूप में डिनर-सेट देने का विचार बना। खरीदने के लिए दुकान पर पहुंचा और दुकानदार से अच्छा सा डिनर-सेट दिखाने को कहा। उसने तत्काल दो कम्पनियों के दो पैक लाकर काउंटर पर रख दिए।
दोनों में एक पैक कुछ बड़ा और आकर्षक था। कम्पनी का नाम भी जाना-पहचाना था। पैक पर सेट में शामिल बर्तनों की कुल संख्या 40 लिखी थी। पूछने पर पता चला कि उसकी क़ीमत 2500 रुपए थी। जिस पर 10 फीसदी डिस्काउंट भी मिलना था।
दूसरा किसी नई कंपनी का था। आकार में थोड़ा छोटा और आकर्षण में पहले वाले की तुलना में कुछ हल्का। सेट में बर्तनों की कुल संख्या 25 थी और क़ीमत 2300 रुपए। वो भी फिक्स, यानि नो डिस्काउंट।
मामला वाकई कुछ अजीब सा था। पैक की क्वालिटी और बर्तनों की क्वांटिटी के आधार पर दाम संशय में डालने वाले थे। अपने इस भ्रम को दूर करने के लिए दुकानदार से सवाल करना पड़ा। इसके बाद जो सच सामने आया उसने खोपड़ी को ठिकाने पर लाने का काम किया।
दुकानदार ने बिना झिझक साफ किया कि माजरा क्या है। उसने बताया कि पहले पैक के 40 नग 24 छुरी-कांटों और चम्मचों को मिला कर हैं। जबकि दूसरे पैक में चम्मचों की कुल संख्या मात्र आधा दर्ज़न है। जबकि बाक़ी बर्तन पहले पैक के बर्तनों से बड़े हैं। बचा-खुचा अंतर केवल पैकिंग का है। जिसकी वजह से पौक बड़ा लग रहा है।
सच सामने आ जाने के बाद संशय की कोई गुंजाइश थी ही नहीं। मैने तुरंत भ्रम के मायाजाल से बाहर आते हुए छोटे सेट को पैक करने का ऑर्डर दे दिया। समझ मे आ चुका था कि बड़े ब्रांड डिस्काउंट और चमक-दमक की आड़ में कितना ठगते आए हैं और कैसे…? बात सब की समझ में आएगी, समझना चाहेंगे तो।।
#स्पष्टीकरण-
(यह कथा पूरी तरह मनगढ़ंत है, जिसका राजनीति, चुनाव या ठगबंधन जैसे चोंचलों से दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं है)
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
भाग्य
भाग्य
Sarla Sarla Singh "Snigdha "
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
Lokesh Sharma
कोलाहल
कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आ रदीफ़ ## कुछ और है
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आ रदीफ़ ## कुछ और है
Neelam Sharma
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
*भारत नेपाल सम्बन्ध*
Dushyant Kumar
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
सभी लालच लिए हँसते बुराई पर रुलाती है
आर.एस. 'प्रीतम'
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता "अयन"
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Oh life ,do you take account!
Oh life ,do you take account!
Bidyadhar Mantry
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3497.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
इश्क़ चाहत की लहरों का सफ़र है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...