Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

#लघुकथा-

#लघुकथा-
■ क्या देखना…?
【प्रणय प्रभात】
चोखेलाल और अनोखेलाल एक सभा में आ रहे बड़े नेता को देखने पहुंचे। देर तक इंतज़ार के बाद नेता जी के आने के संकेत मिले। इसी दौरान पांडाल एक नारे से गूंज उठा। नारा था- “देखो-देखो कौन आया। शेर आया-शेर आया।” इस नारे को सुनते ही चोखेलाल उठा और पांडाल से बाहर की ओर चल दिया।
पीछे से भाग कर अनोखेलाल ने इसकी वजह पूछी तो चोखेलाल तमतमा उठा और बोला- “मैं यहां एक आदमी को देखने और सुनने आया था। किसी जंगली जानवर के लिए नहीं।।” उसके इस जवाब से अनोखेलाल अवाक था जबकि चोखेलाल कपड़ों की धूल झाड़ कर घर की ओर कूच कर चुका था। उधर पांडाल में इंसानी भीड़ अपने उसी नारे से माहौल गुंजा रही थी और बिना पूंछ का शेर मंच पर घूम-घूम कर भीड़ की ओर पंजा हिला रहा था।
😊😊😊😊😊😊😊😊😊

●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
#सामयिक_कविता
#सामयिक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
पगली
पगली
Kanchan Khanna
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
*मनकहताआगेचल*
*मनकहताआगेचल*
Dr. Priya Gupta
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
-आगे ही है बढ़ना
-आगे ही है बढ़ना
Seema gupta,Alwar
2894.*पूर्णिका*
2894.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कटघरे में कौन?
कटघरे में कौन?
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मूक संवेदना🙏
मूक संवेदना🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...