Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 2 min read

#लघुकथा-

#लघुकथा-
■ एक तीर, कई शिकार…।।
【प्रणय प्रभात】
मुंह-अंधेरे फेरों से उठा दूल्हा किसी रस्म पर टेसू सा अड़ गया। मामला था मुंह मांगा नेग न मिलने का। वधु-पक्ष स्तब्ध था। कुछ भी कह पाने में नाकाम। भन्नाया हुआ दूल्हा साफा, पटका, कटार वहीं फेंक भाग निकला। लड़की वालों की भारी जग-हंसाई हुई। मीडिया वालों से लेकर जानने वालों तक ने किरकिरी की सो अलग।
उधर भागा हुआ दूल्हा साल भर अपनी मस्ती में मस्त रहा। शर्म थी नहीं तो मलाल भी क्या होता। एक साल बाद घर वालों ने बेक़द्री की तो बीवी की कमी अखरी। घर वालों को औक़ात याद दिलाना भी ज़रूरी लगा। बंदे ने उठाई बाइक और चल दिया ससुराल की ओर। आंखों में हसीन ख़्वाब लिए। सोच रहा था कि इंतज़ार में बेचैन बीवी उसे देखते ही अमरबेल सी लिपट जाएगी और ससुराली आवभगत में जुट जाएंगे।
ससुराल के दरवाज़े को दस्तक दी तो एक साल पुरानी दुल्हन को सामने पाया। चेहरे पर बहुत निखार आ चुका था एक साल में। बेक़ाबू दिल ने पल भर में सपनों की उड़ान शुरू कर दी। इससे पहले कि कुछ बोल पाता, बीवी ने ही तमक कर पूछ लिया आने का कारण। लड़की की आंखों में अंगारे नज़र आने लगे। उसने एक रात के दूल्हे को यह कहते हुए उसकी हद याद दिला दी कि- “वो सत्ता के सिंहासन की लोभी कोई राजनैतिक पार्टी नहीं, जो उस जैसे बेग़ैरत और धोखेबाज़ से फिर नाता जोड़ ले। याद रखना, मेरा घर किसी पार्टी का मुख्यालय नहीं है कि जब मन किया आए और जब दिल किया चलते बने। अब फुट लो यहां से।।”
दिन-रात टीव्ही पर सियासी खबरें देखने वाले लड़के को तत्काल समझ आ गया कि लड़की का इशारा किस तरफ है। उसने फौरन यू-टर्न लेने में ही भलाई समझी और लौट पड़ा। शायद समझ चुका था कि आज भी दुनिया में खानदानी लोगों की कमी नहीं। वो जान गया कि थूके को चाटने की परिपाटी अब भी सिर्फ़ सियासत में ही है।।
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
नारी : एक अतुल्य रचना....!
नारी : एक अतुल्य रचना....!
VEDANTA PATEL
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
पिता है तो लगता परिवार है
पिता है तो लगता परिवार है
Ram Krishan Rastogi
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
■ शुभ धन-तेरस।।
■ शुभ धन-तेरस।।
*प्रणय प्रभात*
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*
*"माँ वसुंधरा"*
Shashi kala vyas
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
शेखर सिंह
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
Loading...