Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

#लघुकथा / #हिचकी

#लघुकथा
■ गुर्दा-फाड़ हिचकी
【प्रणय प्रभात】
देवलोक में चैन की बंसी बजा रहे सूबे के तमाम दिवंगत महापुरुष इन दिनों बेहद परेशान हैं। परेशानी की वजह है ताबड़तोड़ गुर्दा-फाड़ व फेंफड़ा-फाड़ हिचकी। जो बारी-बारी से किसी न किसी की आंतें फाड़े दे रही है।
आए दिन कोई न कोई इस आपदा की चपेट में आ रहा है। मग्गा भर-भर पानी पीने और कानों में उंगली ठूंसने का टोटका भी फेल है। सारे बेचारे इस सोच में हैं कि अभी उन्हें इत्ता याद कौन कौन मुए कर रहे हैं। जबकि हाल-फ़िलहाल कोई बड़ा चुनाव भी नहीं है उनके अपने स्टेट में। उन सभी के मुंह से बेतहाशा गालियां निकल रही हैं अपने दल के उन दोगलों के लिए, जो हर भाषण में उनके नाम और काम की दुहाइयाँ दे रहे हैं।
वही दोगले जो जीते जी उन्हें बेनागा ब्लैकमेल करने का मौक़ा तलाशते थे। अब उनकी मिसाल दूसरे सूबों में जा-जा कर दे रहे हैं। मंशा शायद उनको यहां भी चैन से नहीं रहने देने की है कमबख्तों की। मतलब मरने के बाद भी बदला लेने की कोशिश। वाह री सियासत। जीते जी फ़ज़ीहत और मरने के बाद क़सीदे??
●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)
🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣🤣

1 Like · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
जिंदगी.... कितनी ...आसान.... होती
Dheerja Sharma
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
"वक्त के साथ"
Dr. Kishan tandon kranti
बुली
बुली
Shashi Mahajan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*प्रणय प्रभात*
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2989.*पूर्णिका*
2989.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
Loading...