Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

( लघुकथा ) मुआवजा

(लघुकथा) मुआवजा
******************
कल एक तूफान आया था…जमकर आँधी चली थी साथ मे ओलावृष्टि का भी कहर था…
खेतों मे खड़ी फसलें बिछ गईं थी ….
गरीबों की झोपड़ी के छप्पर न जाने कहाँ खो गये थे..
किसानों के बुझे हुये चेहरे सारी मेहनत पर पानी फिर जाने का अफसोस मना रहे थे.
गरीबों की उजडी हुई बस्ती आसमान की तरफ मुंह कर अपनी किस्मत को कोसे जा रही थी…
उधर एक सरकारी दफ्तर के कुछ कर्मचारियों के बीच खुशी की लहर दौड़ रही थी….
सभी आपस मे बातें करने मे मशगूल थे कि काफी खर्चे हो चुके हैं, बजट बिगड़ा हुआ है, कड़की चल रही है, इत्यादि..

लेकिन अब सभी प्रसन्न हैं ऊपर वाले ने आखिर सुन जो ली है….
तूफा़न से हुई तबाही के लिये सरकार ने मुआवजे की घोषणा भी कर दी है
अब सभी को प्रतीक्षा है मुआवजा मिलने की..

गीतेश दुबे

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*तरबूज (बाल कविता)*
*तरबूज (बाल कविता)*
Ravi Prakash
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
2331.पूर्णिका
2331.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
Apni Qimat
Apni Qimat
Dr fauzia Naseem shad
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
Shweta Soni
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
Neelofar Khan
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
बादल
बादल
Shankar suman
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
■ अलग नज़रिया...।
■ अलग नज़रिया...।
*प्रणय प्रभात*
बिषय सदाचार
बिषय सदाचार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
रास्तों पर नुकीले पत्थर भी हैं
Atul "Krishn"
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...