Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 2 min read

लघुकथा – “कनेर के फूल”

लघुकथा- “कनेर के फूल ”

“तुझे पता है सुमन पहले ज़माने में कनेर के फूल पैसों के बदले चलते थे। इन फूलों से जो चाहे ख़रीद सकते थे।” ग्यारह वर्षीय कुसुम ने पार्क में कनेर के बिखरे फूलों को चुनते हुए छोटी बहन सुमन से कहा।
“पर दीदी, कैसे पता चलता था कि कौन सा फूल कितने का है।” सुमन ने अचरज से पूछा।
‘अरे पागल। देख यह फूल ज़्यादा खिल रहा है यानी ये दो रूपए का है। यह पीला वाला थोड़ा कम यह एक रूपए का होगा।’ कुसुम ने एक-एक फूल को पकड़कर उसमे फूंक मारी। फूंक से कनेर की पंखुड़ियां बाजे की तरह और खिल उठतीं। सुमन ने भी उत्सुकता वश एक फूल में हवा भरी, फूल नही खिला।
“दीदी ये तो नही खिला।’
“खोटा होगा। छोड़ उसे।” सुमन ने जल्द ही अपनी झोली में बीस बाईस रुपए के कनेर के फूल भर लिए। काश, कितना अच्छा होता अगर पहला ज़माना होता वह अभी इन सबकी टॉफी चाकलेट खरीद लेती। उसे अपने आप पर गुस्सा आने लगा। वह पहले ज़माने में क्यों नही हुई । उसे बताया गया था। तीन ज़माने हैं। एक वह जिसमे लोग कपड़े नही पहनते थे। उन्हें कपड़े दो तब भी उतार कर फेंक देते थे। दूसरा, जिसमे कनेर के फूल पैसों के बदले चलते थे। तीसरा ज़माना, जिसमे कनेर के फूल नही चलते। उसे यह गूढ़ ज्ञान उसकी बहन से मिला था। “दीदी ने कहा है तो सच होगा। झूठ हो ही नही सकता। काले बादल घिरने पर दीदी कहती हैं, देख सुमन बारिश होगी। और सच मे बारिश हो जाती। सुमन को याद आया एक बार पादरी जोसेफ पार्क में खेलते हुए बच्चों को एक एक टॉफी देकर गए। उनके जाने पर दीदी ने कहा कोई टॉफी मत खाना। यह कड़वी है। ज़हर मिला है। कहते हुए उन्होंने अपने मुंह से अधघुली टॉफी निकाल कर उसके सामने चमकाई और गप्प से पुनः मुँह में रख ली थी। दीदी बहुत समझदार हैं। वह सब जानती हैं। सहसा एक हवा का पुरकशिश झोंका आया। कनेर के पीले संतरी अनेक फूल घास की फर्श पर बिखर पड़े। फ़िज़ा उनकी महक से सरोबार हो उठी। सुमन लपक कर फूलों को चुनने लगी। वह हर फूल में फूंक मारती। उनके मूल्य का अंदाज़ा लगाती। “यह वाला ज़्यादा खिला है यह पांच रुपए का है। यह दो का। यह एक का…।”

Language: Hindi
1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीने का सलीका
जीने का सलीका
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
*नव संसद का सत्र, नया लाया उजियारा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
Bhargav Jha
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
Dr. Kishan tandon kranti
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
तहरीर
तहरीर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-227💐
💐प्रेम कौतुक-227💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
नवाब इफ्तिखार अली खान पटौदी
नवाब इफ्तिखार अली खान पटौदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंधेर नगरी-चौपट राजा
अंधेर नगरी-चौपट राजा
Shekhar Chandra Mitra
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
Loading...