Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 2 min read

लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA

लगन की पतोहू जब पेट से थी तो उसे वैधव्य का दंश झेलना पड़ गया। मेरा हमउम्र व पड़ोसी बिकाऊ साह जब अपने बेटे की अभी की उम्र में ही था तभी उसकी अकाल मृत्यु हो गई थी। उसका सोलहसाला नाबालिग बेटा अभी अपनी विधवा माँ का एकमात्र सहारा है।

गाँव के चौर में बाढ़ का पानी उद्दाम-उफनते वेग से बह रहा था, उसी में बिकाऊ नहाने गया था। शायद, काल ही उसे खींचकर ले गया था वहां। तभी तो कंधे भर पानी में ही बलवती भंवर बीच फंसकर डूब मरा था वह। कोई उसे डूबते देखता और बचा पाता, उसके पहले ही दम घुट गया था उसका।

अपने माँ-बाप की वह इकलौती संतान था। इसलिए, बड़े नाजों से उसे उन्होंने पाला था। कितने ही टोनों-टोटकों और मन्नतों के बाद वह इतनी भी जीवन यात्रा कर पाया था।

‘बिकाऊ’ जैसा उपेक्षात्मक नाम उसके माता-पिता ने उसे किन्हीं डायन-दुष्टात्मा की बुरी नजरों से बचाने के लिए ही जानबूझकर रख दिया था। पर उसे शायद, इस दुनिया से अकाल-प्रयाण करना था, सो काल का बुलावा जल्द ही आ गया था।

पन्द्रह वर्ष की किशोरावस्था में ही बिकाऊ की शादी हो गयी थी और शादी के महज छह माह बाद ही वह लगभग बिना कोई दाम्पत्य सुख लिए पत्नी और दुनिया को छोड़ गया था। ससुराल सरहद पार नेपाल में थी, वही कथित मिथिला नरेश जनक की राजधानी रही जनकपुर।

जनकपुरवाली, जो कि अभी भी कोई 28-29 साला सुगठित देहयष्टि वाली यौवना है, को उसकी अभी की महक-चहक की उम्र में ही बीतयौवना-सा जीवन गुजारने को अभिशप्त होना पड़ रहा है, जबकि मेरी शादी हुए अभी साल भर भी नहीं बीता है। पत्नी के संग गुजरे अपने अबतक के मीठे-महकते पलों की बिना पर अब मैं बेशक, महसूस कर सकता हूँ कि 15 साल के उगते-उमगते यौवनांकुर दिनों से अबतक के भरे-पूरे यौवन-समय को बिन संगी, बिन मंजिल वह किस कसमकश से किस विधि नाप रही होगी। यह भी कि अपने इस अमोल समय को कौड़ी के मोल खर्चने की अनिवार विवशता के बट्टा-नुकसान का द्रावक हिसाब बैठाने में उसे किस अकथ-असह्य मुश्किलों का सामना सामना करना पड़ता होगा-यह खुद उस हत्भागी (?) बेवा के सिवा भला कौन बता सकता है?

अब टटका दाम्पत्य देह-सुख पा रहा मैं समझ सकता हूँ कि वह लुक-छिप कर खिड़की या कि दरवाजे के पल्लों की ओट से मुझे जब-तब देखने-निहारने का उपक्रम क्यों करती है!

यह भी कि अपनी समवयस्क, मेरी पत्नी को अपने सर्वोत्तम समय में पूरी सजधज व नाज-नखरों के साथ मुझ संग हँसते-बतियाते देख उसपर क्या कुछ गुजरता होगा?

Language: Hindi
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
दिल-ए-साकित सज़ा-ए-ज़िंदगी कैसी लगी तुझको
Johnny Ahmed 'क़ैस'
" सितारे "
Dr. Kishan tandon kranti
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
एक सच
एक सच
Neeraj Agarwal
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वो आये और देख कर जाने लगे
वो आये और देख कर जाने लगे
Surinder blackpen
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
जो रिश्ते दिल में पला करते हैं
शेखर सिंह
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
■सत्ता के लिए■
■सत्ता के लिए■
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चांद पर उतरा
चांद पर उतरा
Dr fauzia Naseem shad
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
★भारतीय किसान ★
★भारतीय किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...