Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

लकवा

लकवा

“मम्मी, डॉक्टर लोग तो अक्सर कहते रहते हैं कि जो लोग नियमित रूप से शारीरिक श्रम, व्यायाम और योगा वगैरह करते हैं, उन्हें कभी लकवा नहीं मारता। फिर पापा… वे तो ये सब करते थे फिर भी…?”

“बेटा तुम्हारी बात एकदम सही है। तुम्हारे पापा रोज योगा करते थे। मॉर्निंग वॉक, इवनिंग वॉक भी करते थे। रोज साइकिल से ऑफिस जाते-आते थे, फिर भी उन्हें लकवा मार गया। जानना चाहते हो क्यों ?”

“—-”

“क्योंकि वे एक सहृदय इंसान थे। एक आदर्श पति, जिम्मेदार पुत्र और बेहतरीन पिता थे। क्या कुछ नहीं किया उन्होंने अपने परिवार के लिए… और हम लोगों ने क्या किया उनके लिए… तीस साल पहले जब हमारी शादी हुई थी, तब हम सभी किराए के मकान में रहते थे, जबकि आज हम इस शहर की एक अच्छी कॉलोनी में अपने खुद के घर में रह हैं। तुम्हारे दादा-दादी अपने अंतिम समय तक हमारे साथ प्रसन्नतापूर्वक रहे। उनकी सेवा-खातिर में तुम्हारे पापा ने कोई कसर नहीं छोड़ी। तुम दोनों भाई-बहनों को अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए उन्होंने दो-दो जगह नौकरियां कीं। और याद है वह दिन, जब तुम्हारी दीदी अपने एक सहकर्मी के साथ मंदिर में शादी करके घर आई और बोली कि “पापा, ये आपके दामाद रमेश जी हैं। मेरे ही दफ्तर में काम करते हैं। आज हमने मंदिर में शादी कर ली है।” तब देखा था तुमने अपने पापा की हालत… कई हफ्ते सो नहीं सके थे वे। छुप-छुप कर रोते थे। रही-सही कसर तुम निकालते रहते हो, बार-बार यह कहकर कि “आपने हमारे लिया किया ही क्या है अब तक ?”

“—-”

“बेटा, याद रखना हमेशा लकवा शरीर को नहीं मारता, बल्कि मस्तिष्क को मारता है। जब अपने ही लोग दिल को चोट पहुंचाते है, तब आदमी असहाय महसूस करता है। खुद को पैरालाइज्ड समझने लगता है। जीवन निरर्थक लगने लगता है।”

“मम्मी, आप एकदम सही कह रही हैं। पापा ने पूरा जीवन लगा दिया हमें संवारने में और हमने… मां, सॉरी… मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मैं अपने पापा से भी बेहतर पुत्र बनकर दिखाऊंगा।” बेटा मम्मी के दोनों हाथों को अपने हाथ में लेकर बोला।

मां की आंखें नम थीं, हॉस्पिटल के बेड पर पड़े पापा की आंखों से भी आंसू की बूंदें टपक रही थीं।

– डॉ प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
Manju sagar
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
रिश्ते दिलों के अक्सर इसीलिए
Amit Pandey
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
रंजिशें
रंजिशें
AJAY AMITABH SUMAN
" बिछड़े हुए प्यार की कहानी"
Pushpraj Anant
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
"कुछ जगह ऐसी होती हैं
*Author प्रणय प्रभात*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कवि दीपक बवेजा
"मौन"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
सच
सच
Neeraj Agarwal
आश्रम
आश्रम
Er. Sanjay Shrivastava
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
Sridevi Sridhar
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
किशोरावस्था : एक चिंतन
किशोरावस्था : एक चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
Loading...