Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 25, 2019 · 1 min read

र्शीर्षक # बस चलिए

जिंदगी है धोखा खाते चलिए
अपने दिल को बहलाते चलिए

कोइ दुश्मन बन कर जो आए
उसे भी अपना बनाते चलिए

यहां अपना बेगाना कोई नहीं
हर रिश्ते को निभाते चलिए

दूर हो जाएंगी सारी मुश्किलें
उनसे आँख मिलाते चलिए

मिलेगी मंजिल जरुर आपको
बस अपनी राह बनाते चलिए

स्वरचित डॉ.विभ रजंन(कनक)

155 Views
You may also like:
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
नसीब
DESH RAJ
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu haina'
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
ज़मीं की गोद में
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो "डर" है।✍️
'अशांत' शेखर
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
*चुहियादानी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
मेरे सनम
DESH RAJ
बचपन की यादें
Anamika Singh
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
'अशांत' शेखर
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Madhu Sethi
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
अजब रिकार्ड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मन के गाँव
Anamika Singh
✍️मुमकिन था..!✍️
'अशांत' शेखर
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
Loading...