Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2019 · 1 min read

र्शीर्षक # बस चलिए

जिंदगी है धोखा खाते चलिए
अपने दिल को बहलाते चलिए

कोइ दुश्मन बन कर जो आए
उसे भी अपना बनाते चलिए

यहां अपना बेगाना कोई नहीं
हर रिश्ते को निभाते चलिए

दूर हो जाएंगी सारी मुश्किलें
उनसे आँख मिलाते चलिए

मिलेगी मंजिल जरुर आपको
बस अपनी राह बनाते चलिए

स्वरचित डॉ.विभ रजंन(कनक)

254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्वास
विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
🙏आप सभी को सपरिवार
🙏आप सभी को सपरिवार
Neelam Sharma
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुन का महल
कुन का महल
Satish Srijan
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
यूं हर हर क़दम-ओ-निशां पे है ज़िल्लतें
Aish Sirmour
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
निराला जी पर दोहा
निराला जी पर दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
मंजिल का आखरी मुकाम आएगा
कवि दीपक बवेजा
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
विरान तो
विरान तो
rita Singh "Sarjana"
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
सुबह भी तुम, शाम भी तुम
Writer_ermkumar
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
क्यूं हँसते है लोग दूसरे को असफल देखकर
Praveen Sain
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
रिश्तों की रिक्तता
रिश्तों की रिक्तता
पूर्वार्थ
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
💐Prodigy Love-15💐
💐Prodigy Love-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...