Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

रोला छंद

रोला छंद

माटी का इंसान , मृदा में ही मिल जाना ।
उस दाता के खेल, भला वो कब पहचाना ।।
आ जाता जब वक्त , जीव का कब वो टलता ।
जल जाता अभिमान, चिता पर जब वो जलता ।।

सुशील सरना / 30-1-24

82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
ପରିଚୟ ଦାତା
ପରିଚୟ ଦାତା
Bidyadhar Mantry
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
3299.*पूर्णिका*
3299.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जमाना चला गया
जमाना चला गया
Pratibha Pandey
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"समय का महत्व"
Yogendra Chaturwedi
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
पढ़ो और पढ़ाओ
पढ़ो और पढ़ाओ
VINOD CHAUHAN
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
मुक्तक _ दिखावे को ....
मुक्तक _ दिखावे को ....
Neelofar Khan
जब कोई हो पानी के बिन……….
जब कोई हो पानी के बिन……….
shabina. Naaz
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
To my old self,
To my old self,
पूर्वार्थ
Loading...