Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

रोटी संग मरते देखा

रोटी संग मरते देखा
———०——०——-
बरसों बाद कल परसों देखा
रोता मुख ‌‌‌हंसता मुखड़ा देखा।
जगत विपता चढ़ी शिखर
नभ नगाड़े बजते घोर
प्राण पवन में घुला जहर
देव को मुंह फेरते देखा ।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
दुनिया ठहरी संकट गहरा
और पेट में बांधा पहरा
दुःखी दास दाता बेहरा
रोटी के संग मरते देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
प्रीत के सभी बाजे फूटे
बिखरे मोती धागे टूटे
मानवता है माथा कूटे
नदी में शव तैरते देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
थमती सांसें लुटता रोगी
अवसर देखा लपके भोगी
कर्म पथ में बैठे ढोंगी
कांधे विहीन लाशों को देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
पथ रुका चलते रहे पांव
भूख -प्यास नहीं मिला छांव
शहर से भला था मेरा गांव
पथ में राही को पिटते देखा ।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
————————————-
शेख जाफर खान

Language: Hindi
11 Likes · 6 Comments · 589 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
हमारे दोस्त
हमारे दोस्त
Shivkumar Bilagrami
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गमों के साये
गमों के साये
Swami Ganganiya
कोई मुरव्वत नहीं
कोई मुरव्वत नहीं
Mamta Singh Devaa
■ सार संक्षेप...
■ सार संक्षेप...
*Author प्रणय प्रभात*
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
"प्रेम : दोधारी तलवार"
Dr. Kishan tandon kranti
खामोशियां आवाज़ करती हैं
खामोशियां आवाज़ करती हैं
Surinder blackpen
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/135.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सैनिक
सैनिक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूरज - चंदा
सूरज - चंदा
Prakash Chandra
बेकसूर तुम हो
बेकसूर तुम हो
SUNIL kumar
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
Loading...