Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

रोटी संग मरते देखा

रोटी संग मरते देखा
———०——०——-
बरसों बाद कल परसों देखा
रोता मुख ‌‌‌हंसता मुखड़ा देखा।
जगत विपता चढ़ी शिखर
नभ नगाड़े बजते घोर
प्राण पवन में घुला जहर
देव को मुंह फेरते देखा ।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
दुनिया ठहरी संकट गहरा
और पेट में बांधा पहरा
दुःखी दास दाता बेहरा
रोटी के संग मरते देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
प्रीत के सभी बाजे फूटे
बिखरे मोती धागे टूटे
मानवता है माथा कूटे
नदी में शव तैरते देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
थमती सांसें लुटता रोगी
अवसर देखा लपके भोगी
कर्म पथ में बैठे ढोंगी
कांधे विहीन लाशों को देखा।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
पथ रुका चलते रहे पांव
भूख -प्यास नहीं मिला छांव
शहर से भला था मेरा गांव
पथ में राही को पिटते देखा ।
बरसों बाद कल परसों देखा।।
————————————-
शेख जाफर खान

9 Likes · 4 Comments · 198 Views
You may also like:
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
“पिया” तुम बिन
DESH RAJ
डर
"अशांत" शेखर
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
✍️✍️असर✍️✍️
"अशांत" शेखर
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
तो ऐसा नहीं होता
"अशांत" शेखर
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
✍️✍️पराये दर्द✍️✍️
"अशांत" शेखर
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
ताला-चाबी
Buddha Prakash
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
Loading...