Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।

गज़ल

122……122…..122…..122
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
या अल्लाहताला, तूही अब बचाले।

है बैरन ये दुनियां, कहां जाएं यारो,
कोई भी तो आए, मुझे जो सॅंभाले।

किरण कोई उम्मीद, की भी नहीं है,
ॲंधेरों ने घेरा है, रूठे उजाले।

मेरा घर है जन्नत, तेरा है जहन्नुम,
बनाया जो तूने, उसी का मजाले।

नहीं चाय पीने के काबिल रहा तू,
वतन हैं सॅंभाले, यहां चाय वाले।

न आतंक दहशत तेरे काम आया,
अभी खुद को तू दूर जल्दी हटाले।

बहुत दूर सब तुझसे नापाक प्रेमी,
है बेहतर तू हो जा खुदा के हवाले।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दे ऐसी स्वर हमें मैया
दे ऐसी स्वर हमें मैया
Basant Bhagawan Roy
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
*पाई जग में आयु है, सबने सौ-सौ वर्ष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
मैं बनारस का बेटा हूँ मैं गुजरात का बेटा हूँ मैं गंगा का बेट
शेखर सिंह
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
Rj Anand Prajapati
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
ज़रा सी  बात में रिश्तों की डोरी  टूट कर बिखरी,
ज़रा सी बात में रिश्तों की डोरी टूट कर बिखरी,
Neelofar Khan
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
हम सा भी कोई मिल जाए सरेराह चलते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
Neeraj Agarwal
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...