Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2017 · 1 min read

रेहनुमा

मेरी पिर तुझें क्यों दिखाई नहीं देती.
मेरी हसरतो की खीझ तुझे सुनाई नहीं देती.
मौला ना रहा मेरे पिर का अब वो.
ये रेहनुमा तुझे इस कायनात में दिखाई नहीं देती.

अतराफ छलक उठती आंखों से उनकी.
मेरे दिल की सिसकियां उन्हे सुनाई नहीं देती.
कोई पुछ ले हुज़ूर मेरी बिखरी उल्फतो का हाल.
ये रेहनुमा तुझे इस कायनात में दिखाई नहीं देती.

अजीब मंजर रहा इश्क़ का रेहनुमा बन.
मेरी जज्बतो की कदर उन्हें दिखाई नहीं देती.
लोग सुनते मेरे खुलूर को आँखों में जिगर की प्यास भर.
ये रेहनुमा इस कायनात में दिखाई नहीं देती.

अवधेश कुमार राय “अवध”

Language: Hindi
432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सपना
सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
नहीं तेरे साथ में कोई तो क्या हुआ
gurudeenverma198
" जुदाई "
Aarti sirsat
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
शक्कर की माटी
शक्कर की माटी
विजय कुमार नामदेव
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
👌फिर हुआ साबित👌
👌फिर हुआ साबित👌
*Author प्रणय प्रभात*
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
"मनभावन मधुमास"
Ekta chitrangini
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
मां
मां
Monika Verma
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
Sakshi Tripathi
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
Loading...