Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 26, 2021 · 3 min read

रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*

*अतीत की यादें*
????????
*हमारी सुधा बुआ के विवाह दिनांक 6 – 3 – 61 में रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
आजकल विवाह के अवसर पर कान-फोड़ू संगीत बजता रहता है , लेकिन एक जमाना था जब विवाह समारोह काव्यात्मकता से ओतप्रोत होता था । जीवन में सुमधुर काव्य की छटा चारों ओर बिखरी रहती थी । जन सामान्य काव्य प्रेमी था और विवाह में जब तक एक सेहरा न हो ,समारोह अधूरा ही लगता था । क्या धनी और क्या निर्धन ! सभी के विवाह में कोई न कोई कवि पधार कर विवाह गीत (सेहरा) अवश्य प्रस्तुत करते थे। आमतौर पर स्थानीय कवि इस कार्य का दायित्व सँभालते थे । जनता उन्हें रुचिपूर्वक सुनती थी तथा घरवाले अत्यंत आग्रह और सम्मान के साथ उनसे मंगल गीत लिखवाते थे ,छपवाते थे और बरातियों तथा घरातियों में उस गीत को वितरित किया जाता था।
आमतौर पर तो यह कार्य कागज पर छपाई के साथ पूरा हो जाता था, लेकिन जब 1961 में हमारी सुधा बुआ का विवाह हुआ ,तब वर पक्ष ने जो मंगल गीत छपवाया , वह पीले रंग के खूबसूरत रेशमी रुमाल पर छपा हुआ था । क्या कहने ! जितना सुंदर गीत था , उतनी ही सुंदर रेशमी रुमाल की भेंट थी। शायद ही किसी विवाह समारोह में इस प्रकार रुमाल की भेंट दी गई होगी।
एक और काव्यात्मकता की दृष्टि से महत्वपूर्ण तथ्य यह भी है कि हम लोगों के विवाह में जयमाल और फेरों के पश्चात कुछ घरेलू रस्में चलती हैं । इनमें भी विशेष महत्वपूर्ण *छंद कहने की रस्म* है । दूल्हे को उसकी सालियाँ घेर कर बैठ जाती हैं। ससुराल पक्ष के और भी लोग होते हैं। उस समय दूल्हे को कोई *छंद* सुनाने के लिए कहा जाता है। यह हँसी – मजाक का समय रहता है ,जिसमें और कुछ नहीं तो यह बात तो परिलक्षित हो ही रही है कि काव्य का हमारे जीवन में एक विशेष महत्व है तथा विवाह संस्कार में भी उस काव्यात्मकता की अनदेखी नहीं की जाती।
खैर ,मूल विषय रेशमी रुमाल पर छपा हुआ सेहरा गीत है।
रेशमी रुमाल पर सुंदर छपाई के साथ विवाह गीत इन शब्दों में आरंभ होता है :-

*श्री प्रमोद कुमार एवं कुमारी सुधा रानी* *के* *प्रणय सूत्र बंधन पर्व* *पर*

विवाह गीत (सेहरे) पर विवाह की तिथि *दिनांक 6 – 3 – 61* अंकित है ।
*विवाह गीत सेहरा इस प्रकार है:-*
????????
प्रीति – पर्व के बंधन ऐसे प्यारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं

जीवन की सुख – *सुधा*
गीत का पहला – पहला छंद है
इन छंदों में प्रिय *प्रमोद* के
अंतस का आनंद है
लहरों को बाँहों में भर कर
सब कुछ संभव हो गया
एक सूत्र में बँधते कूल कगारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं

झूम – झूम कर बहता चलता
शीतल मंद समीर है
नेह-दान के लिए हो रहा
कितना हृदय अधीर है
यौवन की बगिया में जैसे
आया मदिर बसंत है
मन की कलियों पर अलि पंख पसारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं
विवाह गीत पर अंत में शुभेच्छु महेंद्र ,सहारनपुर लिखा हुआ है।
प्रिंटिंग प्रेस का नाम राघवेंद्र प्रेस ,बहराइच अंकित है
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
*रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा*
*रामपुर (उत्तर प्रदेश)*
*मोबाइल 99976 15451*

394 Views
You may also like:
पहले तेरे हाथों पर
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Fast Food
Buddha Prakash
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
कुछ शेर रफी के नाम ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झूला सजा दो
Buddha Prakash
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
💐💐ये पदार्थानां दास भवति।ते भगवतः भक्तः न💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
नहीं छिपती
shabina. Naaz
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
चुप रहने में।
Taj Mohammad
“ खून का रिश्ता “
DrLakshman Jha Parimal
Freedom
Aditya Prakash
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हासिल ना हुआ।
Taj Mohammad
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी...
Ravi Prakash
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मोहब्बत।
Taj Mohammad
फेहरिस्त।
Taj Mohammad
जिंदगी का काम  तो है उलझाना
Dr.Alpa Amin
देख आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जीवन चक्र
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...