Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2021 · 3 min read

रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*

अतीत की यादें
_______________________________________
रामपुर (उत्तर प्रदेश) में हमारी सुधा बुआ के विवाह दिनांक 6 – 3 – 61 में रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था
आजकल विवाह के अवसर पर कान-फोड़ू संगीत बजता रहता है , लेकिन एक जमाना था जब विवाह समारोह काव्यात्मकता से ओतप्रोत होता था । जीवन में सुमधुर काव्य की छटा चारों ओर बिखरी रहती थी ।
जन-सामान्य काव्य प्रेमी था और विवाह में जब तक एक सेहरा न हो ,समारोह अधूरा ही लगता था । क्या धनी और क्या निर्धन ! सभी के विवाह में कोई न कोई कवि पधार कर विवाह गीत (सेहरा) अवश्य प्रस्तुत करते थे। आमतौर पर स्थानीय कवि इस कार्य का दायित्व सँभालते थे । जनता उन्हें रुचिपूर्वक सुनती थी तथा घरवाले अत्यंत आग्रह और सम्मान के साथ उनसे मंगल गीत लिखवाते थे ,छपवाते थे और बरातियों तथा घरातियों में उस गीत को वितरित किया जाता था।
आमतौर पर तो यह कार्य कागज पर छपाई के साथ पूरा हो जाता था, लेकिन जब 1961 में हमारी सुधा बुआ का विवाह हुआ ,तब वर पक्ष ने जो मंगल गीत छपवाया , वह पीले रंग के खूबसूरत रेशमी रुमाल पर छपा हुआ था । क्या कहने ! जितना सुंदर गीत था , उतनी ही सुंदर रेशमी रुमाल की भेंट थी। शायद ही किसी विवाह समारोह में इस प्रकार रुमाल की भेंट दी गई होगी।
एक और काव्यात्मकता की दृष्टि से महत्वपूर्ण तथ्य यह भी है कि हम लोगों के विवाह में जयमाल और फेरों के पश्चात कुछ घरेलू रस्में चलती हैं । इनमें भी विशेष महत्वपूर्ण छंद कहने की रस्म है । दूल्हे को उसकी सालियाँ घेर कर बैठ जाती हैं। ससुराल पक्ष के और भी लोग होते हैं। उस समय दूल्हे को कोई छंद सुनाने के लिए कहा जाता है। यह हँसी – मजाक का समय रहता है ,जिसमें और कुछ नहीं तो यह बात तो परिलक्षित हो ही रही है कि काव्य का हमारे जीवन में एक विशेष महत्व है तथा विवाह संस्कार में भी उस काव्यात्मकता की अनदेखी नहीं की जाती।
खैर ,मूल विषय रेशमी रुमाल पर छपा हुआ सेहरा गीत है।
रेशमी रुमाल पर सुंदर छपाई के साथ विवाह गीत इन शब्दों में आरंभ होता है :-

श्री प्रमोद कुमार एवं कुमारी सुधा रानी के प्रणय सूत्र बंधन पर्व पर

विवाह गीत (सेहरे) पर विवाह की तिथि दिनांक 6 – 3 – 61 अंकित है ।
विवाह गीत सेहरा इस प्रकार है:-
_________________________
प्रीति – पर्व के बंधन ऐसे प्यारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं

जीवन की सुख – सुधा
गीत का पहला – पहला छंद है
इन छंदों में प्रिय प्रमोद के
अंतस का आनंद है
लहरों को बाँहों में भर कर
सब कुछ संभव हो गया
एक सूत्र में बँधते कूल कगारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं

झूम – झूम कर बहता चलता
शीतल मंद समीर है
नेह-दान के लिए हो रहा
कितना हृदय अधीर है
यौवन की बगिया में जैसे
आया मदिर बसंत है
मन की कलियों पर अलि पंख पसारे लगते हैं
जैसे नील गगन के चाँद सितारे लगते हैं
विवाह गीत पर अंत में शुभेच्छु महेंद्र ,सहारनपुर लिखा हुआ है।
प्रिंटिंग प्रेस का नाम राघवेंद्र प्रेस ,बहराइच अंकित है
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
लेखक :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
Tag: लेख
1401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
"न तितली उड़ी,
*Author प्रणय प्रभात*
पगली
पगली
Kanchan Khanna
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
देवमूर्ति से परे मुक्तिबोध का अक्स / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
इंसान को,
इंसान को,
नेताम आर सी
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
शायरी की तलब
शायरी की तलब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...