Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

लघुकथा- ‘रेल का डिब्बा’

खचाखच भरी रेल के सामान्य डिब्बे में मोहित जैसे ही ऊपरी सीट पर चढ़ा, निचली सीट पर बैठी लड़की तमतमाकर बोली -“अरे ! दिखाई नहीं देता क्या? यहाँ पहले से हमारा बैग रखा हुआ है, चलो उतरो यहाँ से ।” मोहित पहले तो झेंपा, फिर अधिकारपूर्वक बोला-” अरे, यह सामान्य डिब्बा है, तुम लोगों का आरक्षण है क्या यहाँ?” जैसे ही उस लड़की के साथ बैठा हुआ युवक गुस्से में भरकर मोहित से दो-दो हाथ करने को तैयार हुआ तो उसे रोककर वह स्वयं आ भिड़ी -“क्या कर लेगा तू ? मैं लड़की हूँ, हाथ लगाकर दिखा चल अभी जेल के अंदर दिखाई देगा।” झगड़ा बढ़ते देख आसपास भीड़ इकट्ठी हो गई। एक यात्री बोला-“बैठ जाने दीजिए न बहन जी, वैसे तो ऊपरी सीट समान रखने के लिए होती है, लेकिन अभी खाली है…।” लड़की का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया था वह फिर बोली-“अरे ! बड़े आये वकालत करने वाले ! हमने पहले जगह रोकी है, सीट हमारी हुई ।यहाँ से हटना पड़ेगा।” काफी नोंकझोंक के बाद आखिरकार मोहित को हटना पड़ा। लड़की ने ऊपरी सीट पर चादर बिछाया और आराम से लेट गई । निचली सीट पर वह युवक एवं अन्य यात्री पसर-पसरकर बैठ गए।ट्रैन सीटी देकर चल पड़ी । डिब्बे में चारों तरफ भीड़ खड़ी थी। मोहित लम्बी दूरी तक खड़ा रहा। ऊपरी सीटों पर सोए हुए अन्य यात्री भी खर्राटे भरने लगे।

Language: Hindi
3 Likes · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
बोल हिन्दी बोल, हिन्दी बोल इण्डिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
तन्हाईयाँ
तन्हाईयाँ
Shyam Sundar Subramanian
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
जीवन और बांसुरी दोनों में होल है पर धुन पैदा कर सकते हैं कौन
Shashi kala vyas
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
"गुब्बारा"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-5💐
💐अज्ञात के प्रति-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*राष्ट्र-क्षय से फिर विभाजन,आपदा आ जाएगी 【मुक्तक】*
*राष्ट्र-क्षय से फिर विभाजन,आपदा आ जाएगी 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
Tarun Prasad
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Nav Lekhika
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
Ram Krishan Rastogi
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
गर्म चाय
गर्म चाय
Kanchan Khanna
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
खून दोगे तुम अगर तो मैं तुम्हें आज़ादी दूँगा
Dr Archana Gupta
शायरी
शायरी
goutam shaw
■ वैचारिक भड़ास...!
■ वैचारिक भड़ास...!
*Author प्रणय प्रभात*
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !
Nupur Pathak
Loading...