Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

रेतीले तपते गर्म रास्ते

मज़िल अभी दूर है
रेतीले रास्ते तपते गर्म
लंबा है सफ़र

हाथ हैं पीछे बंधे हुए
किस से कहें के
पावं से काँटा निकाल दे

Language: Hindi
85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
मुझे वो सब दिखाई देता है ,
Manoj Mahato
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
Kaushal Kishor Bhatt
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
कवि रमेशराज
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
आज फिर से
आज फिर से
Madhuyanka Raj
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
भाग दौड़ की जिंदगी में अवकाश नहीं है ,
Seema gupta,Alwar
बाबुल का घर तू छोड़ चली
बाबुल का घर तू छोड़ चली
gurudeenverma198
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
"वो अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
अपने-अपने काम का, पीट रहे सब ढोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
Loading...