Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

रेणुका और जमदग्नि घर,

रेणुका और जमदग्नि घर,
जन्मा एक तेजस्वी बालक।
भृगु पौत्र में अद्भुत आभा थी,
जो भया अवनी का संचालक।
भृगु ने रखा था नाम राम,
माँ बाप आँख का तारा था।
फरसा पाकर शिव से वर में,
जग परसू राम पुकारा था।
सहसबाहु की गर्दन काटा था,
सब अत्याचारी मारे थे।
विष्णु के अंश अवतार थे वे,
भक्तों के नित रखवारे थे।
ब्रह्मचारी, परम् तपस्वी वे,
छल प्रपंचों से खाली थे।
शंकर आराध्य थे भार्गव के,
अति क्रोधी अति बलशाली थे।
भृगुनन्दन जन्म दिवस शुभ हो,
भक्तों को आशीर्वाद मिले।
धन धान्य आरोग्य व सुख शांति ,
सुत पौत्र मुख कांति खिले।

श्रीपरशुराम जयन्ती मंगलमय हो

562 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
* जिसने किए प्रयास *
* जिसने किए प्रयास *
surenderpal vaidya
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
मिल लेते हैं तुम्हें आंखे बंद करके..
शेखर सिंह
3174.*पूर्णिका*
3174.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
आदमी इस दौर का हो गया अंधा …
shabina. Naaz
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
22, *इन्सान बदल रहा*
22, *इन्सान बदल रहा*
Dr Shweta sood
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
छल.....
छल.....
sushil sarna
सितारा
सितारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
Loading...