Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

रिश्ते

रिश्ते
रिश्ते कितने अजीब होते हैं,कभी गम में तो कभी खुशी में,
कभी साथ होते हैं तो कभी दूर,कभी प्रेम में तो कभी दोस्ती में।
रिश्तें होते हैं विश्वास के,एक-दूसरे पर भरोसा के,
एक-दूसरे की मदद के,एक-दूसरे के सुख-दुःख के।
लेकिन आजकल के ज़माने में,रिश्ते नहीं बनते हैं,
सबका सब चलता है,कोई रिश्तों को नहीं समझता।
अब इंसान खुद में इतना व्यस्त है,कि रिश्तों के लिए समय नहीं है,
अपने लिए भी समय नहीं है,तो दूसरों के लिए कैसे होगा?
किसी से उम्मीद रखें तो उतनी ही रखें,जितना वो निभाता दिखे,
ज्यादा उम्मीद रखेंगे तो तकलीफ होगी,और सामने वाले को फर्क नहीं पड़ेगा

132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
मनमोहन छंद विधान ,उदाहरण एवं विधाएँ
Subhash Singhai
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
दशमेश के ग्यारह वचन
दशमेश के ग्यारह वचन
Satish Srijan
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
*होली पर बनिए सदा, महामूर्ख सम्राट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
मां बताती हैं ...मेरे पिता!
Manu Vashistha
अपनों की जीत
अपनों की जीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
Loading...