Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

रिक्ति (लघुकथा

घड़ियाली आंसू बहाना अब बंद करो, शोक सभा समाप्त हो गई है, अब नाटक करने की तुम्हें कोई जरुरत नहीं है, झल्लाते हुए सुगन्धा ने अपने पति सोमेश से कहा।
“नाटक, तुम्हें नाटक लग रहा है, तुम्हें दिखाई नहीं देता मैं सचमुच दुखी और परेशान हूँ, दुख मुझे इस बात का नहीं है कि पिताजी अब इस दुनिया में नहीं रहे, अरे उनके होने न होने से क्या फर्क पड़ता है, दुःख तो मुझे इस बात का है कि उनका पेंशन जो हर महीने मिल जाता था अब बंद हो जायेगा, उसी से बच्चों की पढ़ाई का और घर का सारा खर्च निकल जाता था, इतनी बड़ी रिक्ति की भरपाई अब कैसे होगी ? सोमेश ने खिन्न मन से अपनी बात पूरी की,
अब तो सुगंधा के माथे पर भी दुख की लकीरें खींच गई।

Language: Hindi
1 Like · 274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्तों की कमी
दोस्तों की कमी
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
dream of change in society
dream of change in society
Desert fellow Rakesh
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
कैसे गीत गाएं मल्हार
कैसे गीत गाएं मल्हार
Nanki Patre
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हिंदी की दुर्दशा
हिंदी की दुर्दशा
Madhavi Srivastava
तय
तय
Ajay Mishra
एहसास
एहसास
Vandna thakur
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/102.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
जीवन की अफरा तफरी
जीवन की अफरा तफरी
कवि आशीष सिंह"अभ्यंत
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
कहां तक चलना है,
कहां तक चलना है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...