Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

रिक्ति (लघुकथा

घड़ियाली आंसू बहाना अब बंद करो, शोक सभा समाप्त हो गई है, अब नाटक करने की तुम्हें कोई जरुरत नहीं है, झल्लाते हुए सुगन्धा ने अपने पति सोमेश से कहा।
“नाटक, तुम्हें नाटक लग रहा है, तुम्हें दिखाई नहीं देता मैं सचमुच दुखी और परेशान हूँ, दुख मुझे इस बात का नहीं है कि पिताजी अब इस दुनिया में नहीं रहे, अरे उनके होने न होने से क्या फर्क पड़ता है, दुःख तो मुझे इस बात का है कि उनका पेंशन जो हर महीने मिल जाता था अब बंद हो जायेगा, उसी से बच्चों की पढ़ाई का और घर का सारा खर्च निकल जाता था, इतनी बड़ी रिक्ति की भरपाई अब कैसे होगी ? सोमेश ने खिन्न मन से अपनी बात पूरी की,
अब तो सुगंधा के माथे पर भी दुख की लकीरें खींच गई।

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
1 Like · 194 Views
You may also like:
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव अदम्य
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
एक ज़िंदा मुल्क
Shekhar Chandra Mitra
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भूल
Seema 'Tu hai na'
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
Subject- मां स्वरचित और मौलिक जन्मदायी मां
Dr Meenu Poonia
दिल की आवाज़
Dr fauzia Naseem shad
आओ हम याद करे
Anamika Singh
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां
Umender kumar
वर्क होम में ऐश की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
✍️कुछ राज थे✍️
'अशांत' शेखर
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
माँ
Dr Archana Gupta
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
कवि और चितेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
लगा हूँ...
Sandeep Albela
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
अब और कितना झूठ बोले तानाण तेरे किरदार में
Manoj Tanan
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाबों को हकीकत में बदल दिया
कवि दीपक बवेजा
यह तुमने क्या किया है
gurudeenverma198
Loading...